चैरिटेबल ट्रस्ट के यत्नों से विदेश से भारत पहुंची गुरदेव सिंह की लाश, हार्टअटैक में हुई थी मौत

punjabkesari.in Thursday, Mar 03, 2022 - 07:42 PM (IST)

अमृतसर (संधू, ममता) : खाड़ी देशों में काम करने गए लोगों की मुश्किल घड़ी में मदद करने वाले दुबई के प्रसिद्ध कारोबारी और चैरिटेबल ट्रस्ट के सरप्रस्त डा. एस.पी. सिंह ओबराए के यत्नों से कपूरथला जिले के गांव माना तलवंडी के 66 साला गुरदेव सिंह पुत्र उधम सिंह का मृतक शरीर आज दुबई से श्री गुरु रामदास अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा राजासांसी में पहुंचा। 

सरबत्त का भला चैरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक डा. एस.पी. सिंह ओबराए ने बताया कि पारिवारिक सदस्यों से प्राप्त जानकारी अनुसार गुरदेव सिंह अपने परिवार के आर्थिक हालातों को बेहतर बनाने के लिए सन 1980 से दुबई में मेहनत कर रहा था। उसने अपनी सख्त मेहनत की वजह से यहां ट्रांसपोर्ट का बहुत बढ़िया कारोबार चला लिया था। जिस कंपनी में उसके ट्रक चलते थे, उस कंपनी का मालिक कंपनी बंद कर कर भाग गया था। गुरदेव सिंह अब बिना वीजे से यहां रह रहा था। 

उन्होंने बताया कि बदकिसमती के साथ बीती 22 फरवरी की सुबह को अचानक दिल का दौरा पड़ने साथ उसकी मौत हो गई थी। इस घटना संबंधी उनके साथ गुरदेव सिंह के सबंधियों ने संपर्क कर मृतक देह भारत पहुंचाने में सहयोग करने के लिए कहा था। उन्होंने दुबई में भारतीय दूतावास के सहयोग से सारी कागजी कार्रवाई मुकम्मल करवा कर गुरदेव के मृतक शरीर को दुबई से भारत भेजा है। इस समुच्चय कार्रवाई दौरान डा. ओबराय के निजी सचिव बलदीप सिंह चाहल की भी विशेष भूमिका रही है। 

पीड़ित परिवार के साथ हवाई अड्डे पर दुख सांझा करन पहुंचे ट्रस्ट के माझा जोन के प्रधान सुखजिन्दर सिंह, मनप्रीत संधू, नवजीत सिंह घई, शिशपाल सिंह, परमिन्दर सिंह संधू ने बताया कि डा. ओबराय के यतनों से अब तक 292 बदनसीब लोगों के मृतक शरीर उनके वारिसों तक पहुंचाए जा चुके हैं। इस दौरान मृतक के भतीजे गुरदेव सिंह, भाई सुखमिन्दर सिंह और कुन्नण सिंह समेत दूसरे पारिवारिक सदस्यों ने उसकी मृतक देह लेकर आने के लिए ट्रस्ट का बड़ा धन्यवाद किया।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Subhash Kapoor

Related News

Recommended News