बेकरी शॉप में चोरी, FIR दर्ज करवाने के लिए करनी पड़ी 22 दिन मिन्नतें

1/11/2021 3:48:56 PM

लुधियाना (ऋषि): जहां एक तरफ पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल द्वारा लोगों में पुलिस का विश्वास बढ़ाने के लिए नए-नए प्रयास किए जा रहे हैं, वहीं जमीनी स्तर पर अभी भी लोगों को पुलिस के गलत रवैया का सामना करना पड़ रहा है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिसमें बैकरी शॉप पर चोर हाथ साफ कर गए लेकिन चोरों को पकड़ना तो दूर, मालिक को एफ.आई.आर. दर्ज करवाने के लिए थाना डिवीजन नं. 2 की पुलिस की 22 दिनों तक मिन्नतें करनी पड़ीं जो कमिश्नरेट पुलिस के लिए काफी शर्म की बात है।

मामले बारे जानकारी देते हुए फील्डगंज के रहने वाले संजीव सिंह ने बताया कि उसकी अजीत नगर में संजीव बेकरी के नाम से शॉप है। हर रोज की तरह गत 17 दिसम्बर रात 9.30 बजे लॉक लगाकर घर चला गया। सुबह आकर देखा तो दुकान के ताले टूटे हुए थे और गल्ले में पड़ी नकदी गायब थी जिसके बाद पुलिस कंट्रोल रूम पर सूचना दी गई। मालिक के अनुसार पुलिस ने उस पर पहले एफ.आई.आर. दर्ज न करने का दबाव बनाया ओर कहा कि बिना केस दर्ज किए ही चोरों को पकड़ लिया जाएगा। इंसाफ के लिए उसके द्वारा थाने के कई चक्कर लगाए गए लेकिन बात न बनती देख एक एन.जी.ओ. की मदद से थाने पहुंचा जिसके बाद पुलिस ने केस दर्ज किया।

फुटेज से खुद कर लो पहचान, फिर बता देना
मालिक के अनुसार चोरी की हरकत पास दुकान के अंदर व बाहर लगे कैमरों में कैद हो गई। फुटेज में दिखाई दे रहा है कि रात 2 बजकर 5 मिनट पर 4 चोर पैदल आते हैं और पहले मेन गेट के ताले तोडक़र अंदर घुसने का प्रयास करते हैं लेकिन बात न बनने पर गली के रास्ते दुकान के शटर के ताले तोडक़र सामान चुराकर 3 बजे फरार हो जाते हैं। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस जांच शुरू करने की बजाय यह कहकर चली गई कि इलाके में लगे कैमरों की फुटेज खुद चैक कर देखे कि चोर किस ओर गए हैं और अगर किसी चोर की पहचान होती है तो उन्हें बता देना, उसके बाद उन्हें पकड़ लिया जाएगा।

3 लाख से ज्यादा ले गए, पुलिस ने लिखवाने नहीं दिए
पीड़ित दुकान मालिक के अनुसार चोर दुकान से 3 लाख से ज्यादा की नकदी चुराकर ले गए लेकिन पुलिस ने बयानों में पूरी रकम नहीं लिखवाने दी और यह कहकर डराने लग पड़े कि बाद में पैसों का हिसाब न मिलने पर दिक्कत आ सकती है। चोरों द्वारा गल्ले पर लगे 4 तालों सिहत कुल 10 ताले तोड़े गए हैं।

छत पर सोया रहा स्टाफ
मालिक के अनुसार उसकी दुकान की तीसरी मंजिल पर कमरे बने हुए हैं जहां पर सारा स्टाफ सोया रहता है। घटनास्थल की रात भी कमरे में 6 वर्कर मौजूद थे जिन्होनें सर्दी के चलते कमरे अंदर से बंद कर रखे थे जिस कारण उन्हें चोरों के आने की भनक तक नहीं लगी।


Mohit

Recommended News