बाहरी राज्यों से आ रहा है दो नम्बर में तंबाकू, लाखों कमा रहे मोबाइल विंग के अफसर

punjabkesari.in Wednesday, Dec 01, 2021 - 02:52 PM (IST)

लुधियाना(धीमान) : बाहरी राज्यों से हर माह करोड़ों रुपए का तंबाकू पंजाब में बिना जी.एस.टी. के आ रहा है। जिसकी खबर जी.एस.टी. अधिकारियों के तो है लेकिन अपनी निजी फीस के चक्कर में वह तंबाकू की गाड़ी को देखकर आंखें बंद कर लेते हैं। तंबाकू पर 28 प्रतिशत जी.एस.टी. है लेकिन जैसे ही यह पंजाब की सीमा में प्रवेश करता है इस पर कई तरह के सेस लगते हैं जिससे तंबाकू पर लगने वाला जी.एस.टी. करीब 200 प्रति तक पहुंच जाता है। हकीकत में सरकार को पंजाब में तंबाकू की पहुंचने वाली कुल मात्रा के 20 प्रतिशत हिस्से पर भी जी.एस.टी. नही मिलता। इसका सीधा सा कारण जी.एस.टी. विभाग के अफसर और मोबाइल विंग के अफसरों की तंबाकू कारोबारियों से माेटी सेटिंग होना माना जा रहा है।

यह भी पढ़ेंः दिल को रखना है स्वस्थ तो एक बार जरूर पढ़ें यह खबर

मोबाइल विंग के अफसर सिर्फ स्टील व स्क्रैप या हौजरी की गाड़ियां पकड़ कर अपनी पीठ थपथपाते हैं जिनसे नाममात्र ही रैवेन्यू एकत्रित होता है। एक तंबाकू विक्रेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि मान लिया जाए कि एक गाड़ी में 1.35 लाख रुपए का तंबाकू है तो उस पर 28 प्रतिशत जी.एस.टी. और सेस लगने से यह माल करीब 4.50 लाख रुपए का हो जाता है। यह माल तो आया एक नंबर में, अब अगर बिना जी.एस.टी. अदा किए मोबाइल विंग तंबाकू की गाड़ियां पकड़ ले तो पेनल्टी और जुर्माना लगाकर सरकार को 9 लाख रुपए का रैवेन्यू आ सकता है लेकिन अफसरों की मेहरबानी से सरकार को तंबाकू से आटे में नमक के मुताबिक ही जी.एस.टी.मिल रहा है।

यह भी पढ़ेंः अगर आप भी धुंध में निकलेंगे घर से बाहर तो ये टिप्स हो सकते हैं फायदेमंद

लुधियाना से पूरे राज्य में होता है तंबाकू सप्लाई
बाहरी राज्यों से आने वाले तंबाकू की लगभग 80 प्रतिशत डिलीवरी लुधियाना में उतरती है। यहीं पर तंबाकू के बैठे डीलर पूरे पंजाब में इसकी सप्लाई करते हैं। यह सारा माल ट्रांसपोर्ट और रेलवे के जरिए पहुंचता है। सूत्र बताते हैं कि ट्रांसपोर्टर खुद ही अफसरों को बता देते हैं कि किस समय तंबाकू की गाड़ी पंजाब में प्रवेश करेगी और किस वक्त लुधियाना पहुंचेगी, ताकि उस समय मोबाइल विंग का कोई भी अफसर उस रूट पर न खड़ा हो। इस सबके लिए नीचे से लेकर ऊपर तक मोदी रकम रिश्वत के रूप में हर माह तंबाकू डीलरों द्वारा दी जा रही है। ऐसा नहीं है कि जी.एस.टी. विभाग में सारे अफसर ही भ्रष्ट हैं।

कुछ ऐसे अफसर भी हैं जिन्होंने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जिला लुधियाना से ही जी.एस.टी. के अफसरों को एक डीलर से करीब 15 लाख रुपए महीना रिश्वत के रूप में मिलता है। जो इंस्पैक्टर, ई.टी.ओ., ए.ई.टी.सी. और डी.ई.टी.सी. के अलावा मोबाइल विंग के अफसरों में बांटा जाता है।

यह भी पढ़ेंः अगर आप भी करते हैं ट्रेन में सफर तो पढ़ें यह खबर

बैन होने के बावजूद बिक रहा है पान मसाला व गुटका
पंजाब सरकार ने फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड रैगुलेशन एक्ट-2011 के सैक्शन 30 (2) (ए) के तहत पान मसाला व गुटका का उत्पादन करना, बेचने और स्टोर करने पर प्ररतिबंध लगा रखा है। इसके बावजूद पंजाब में धड़ल्ले से पान मसाला व गुटका बिक रहा है। इन सबसे भी अफसर हर माह खूब जेबें गर्म कर रहे हैं। इसकी बिक्री पर न तो जी.एस.टी. विभाग और न ही हैल्थ विभाग कोई नजर डालना चाहता है।

यह भी पढ़ेंः अगर आप भी करते हैं ट्रेन में सफर तो पढ़ें यह खबर

इंफोर्समैंट पंजाब के डायरैक्टर जसपिंदर सिंह ने बताया कि जी.एस.टी. विभाग का फोकस अब उन कोमोडिटी पर भी हो गया है जिनसे रैवेन्यू कम आ रहा है। जहां तक तंबाकू की बात है अगले 15 दिनों के भीतर इन पर पूरी तरह शिकंजा कस दिया जाएगा। उन्होंने यह भी माना कि तंबाकू से विभाग को ज्यादा रैवेन्यू आएगा।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Related News

Recommended News