275 करोड़ की हैरोईन पकड़ना सबसे बड़ी उपलब्धि,2 जवान सम्मानित

Thursday, December 07, 2017 4:25 PM
275 करोड़ की हैरोईन पकड़ना सबसे बड़ी उपलब्धि,2 जवान सम्मानित

गुरदासपुर (विनोद): सीमा सुरक्षा बल की 112 बटालियन के जिन दो जवानों ने गत रात रोसा बी.अे.पी.के सामने पाकिस्तान से लेकर आ रहे तीन तस्करों को वापिस भागने के लिए मजबूर कर 55 किलोग्राम हैराईन कीमत 275 करोड़ सहित दो रिवाल्वर बरामद किए उन्हे आज सीमा सुरक्षा बल के आई.जी.मुकल गोयल ने 10 हजार रुपए नकद ईनाम देकर सम्मानित किया गया। सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक को इन दोनों जवानों को विशेष सम्मान देने की सिफारिश करने की घोषणा की।
        

पत्रकारों से बातचीत करते हुए श्री गोयल ने बताया कि गत रात सीमा सुरक्षा बल के जवान हरीश कुमार तथा डी.लोकेन्द्र सिंह ने रोसा बी.ओ.पी. के सामने पाकिस्तान साईड की तरफ से कुछ लोगों को भारतीय सीमा मे प्रवेश करते हुए नोटिस किया। जब यह लोग नजदीक आए तो तीन तस्करों को एक प्लास्टिक पाईप के साथ आते देख कर उन्हें दोनों जवानों ने ललकारा तथा फायरिंग शुरू कर दी। लगभग 20 राऊंड फायर किए गए तथा तस्कर पाईप आदि वहीं छोड़ कर वापिस पाकिस्तान की तरफ अंधेरे का लाभ उठा कर भागने में सफल हो गए। उन्होंने बताया कि रोसा बी.ओ.पी.तथा अंतर्राष्ट्रीय सीमा मात्र 300 फुट की दूरी पर है।
  

आई.जी.गोयल ने बताया कि इन दोनों जवानों ने अपने अधिकारियों को जानकारी दी तथा ईलाके की तालाशी लेने पर यह हैरोईन तथा रिवाल्वर बरामद हुए। गुरदासपुर सैक्टर में आज तक की यह सबसे बड़ी हैरोईन की खेप पकड़ी गई है। उन्होंने दोनों जवानों को इस बहादुरी की शाबाशी देते हुए अपनी तरफ से 10 हजार रुपए का ईनाम देने की घोषणा की । इसके साथ कहा कि इन्हें विशेष सम्मान दिलाने के लिए सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक को भी लिखा जाएगा।  
आई.जी.मुकल गोयल ने कहा कि सीमा सुरक्षा बल द्वारा पुलिस तथा अन्य सुरक्षा तथा गुप्तचर ऐजैंसियों से बेहतर तालमेल के कारण ही पंजाब वार्डर पर घुसपैठ पर रोक लगाई जा सकी है तथा आने वाले समय मे ओर बेहतर तालमेल बनाने की कोशिश की जाएगी। एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से घुसपैठ तथा हैरोईन की तस्करी की कोशिश लगातार जारी है,परंतु हम पहले से अधिक सर्तकता से सीमा पर पाकिस्तान की किसी साजिश को सफल नहीं होने देंगे।

 

एक अन्य प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में कितने खालिस्तानी समर्थक अभी भी शरण लिए हुए इसकी जानकारी सीमा सुरक्षा बल को नहीं है। इस तरह की जानकारी पुलिस के पास होती है। उन्होंने कहा कि हमारा काम सीमाओं की रक्षा करना तथा घुसपैठ व सीमा पार से तस्करी को रोकना है। जो हम पूरी तनदेही से कर रहे हैं। इस मौके पर डी.आई.जी.आर.एस.कटारिया(पी.आर.ओ.)डी.आई.जी.गुरदासपुर सैक्टर रमेश शर्मा सहित गुप्तचर विंग के गुरदासपुर के इंचाज परमजीत सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।
 
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!