नकोदर से ‘आप’ की विधायक इंद्रजीत कौर मान के साथ ‘पंजाब केसरी’ की विशेष बातचीत

punjabkesari.in Saturday, May 21, 2022 - 03:39 PM (IST)

जालंधर : पंजाब में बिजली कट की समस्या विकराल रूप धारण कर चुकी है। लंबे-लंबे कट लग रहे हैं। पंजाब में आम आदमी की सरकार डिमांड के मुताबिक बिजली की आपूर्ति करने में फेल साबित होती नजर आ रही है। लोगों को बिजली के लिए इनवर्टरों सहित दूसरे साधनों का उपयोग करना पड़ रहा है। 

बेशक यह समस्या अकेले पंजाब की न होकर देश के 14 राज्यों की है लेकिन पंजाब सरकार की कहीं न कहीं जिम्मेदारी बनती है, क्योंकि बिजली आम आदमी पार्टी का पंजाब में सबसे बड़ा मुद्दा रही है। पंजाब की पूर्व सरकारों द्वारा विगत में बिजली आपूर्ति कंपनियों से किए समझौते रद्द करने का दावा आम आदमी पार्टी करती रही है। पंजाब में हाल ही में सत्ता में आई आम आदमी पार्टी की सरकार क्या पूर्व सरकारों द्वारा किए गए समझौतों को रद्द कर सकेगी और क्या सरकार वर्तमान में राज्य में जो बिजली संकट पैदा हुआ है प्रदेश की जनता को उसका कोई हल दे पाएगी?

इन तमाम सवालों को लेकर पंजाब केसरी के संवाददाता रमनदीप सिंह सोढी और पाली द्वारा जब नकोदर हलके से निर्वाचित आम आदमी पार्टी की विधायक इंद्रजीत कौर मान से बात की गई तो उन्होंने कहा कि बिजली समझौते हर हाल में रद्द होंगे लेकिन पहले हमें उसका विकल्प तलाशना होगा। पंजाब में ब्लैकआऊट तो किया नहीं जा सकता। इसलिए पहले हमें प्राइवेट कंपनियों के बराबर इंफ्रास्ट्रक्चर खड़ा करना पड़ेगा।

विधायक ने कहा कि हम इसे सरकार का फेलियर नहीं कह सकते क्योंकि 14 राज्यों में यह समस्या खड़ी हुई है। केंद्र सरकार के पाले में गेंद है। कोयले की आपूर्ति बंद की गई है और इसके साथ ही केंद्रीय पूल से बिजली देने से मना किया गया है। बहुत सारी समस्याएं आई हैं। हमारे थर्मल प्लांट बंद हो गए हैं। ये थर्मल प्लांट क्यों बंद हुए क्योंकि पिछली सरकारों के समय इन्हें किसी ने देखा ही नहीं। कोई मैंटीनेंस तक नहीं हुई। वहीं बिजली की खपत 14000 से 18000 मैगावाट हो गई है। इसमें बहुत सारे फैक्ट काम करते हैं और लोग भी इसे भली-भांति जानते हैं। बिजली को लेकर सरकार बहुत बड़े फैसले लेने जा रही है। बड़े-बड़े सोलर प्लांट लगाए जाने का फैसला किया गया है ताकि प्राइवेट कंपनियों को चुनौती दी जा सके।

जितना बड़ा समर्थन उतनी बड़ी जनता की उम्मीदें
पंजाब में हुए विधानसभा चुनावों के दौरान जनता ने बहुत बड़े मार्जन के साथ आम आदमी पार्टी को राज्य की सत्ता सौंपी है। क्या ‘आप’ सरकार लोगों की उम्मीदों पर खरा उतर पाएगी? इस सवाल के जवाब में विधायक मान ने कहा कि जनता का जितना बड़ा समर्थन है, उम्मीदें भी उतनी ही बड़ी हैं। पंजाब के विकास को लेकर हमने स्वयं बहुत बड़े सपने देखे हैं और वही सपने लेकर हम लोगों के बीच गए हैं। लोगों से हमने वादे किए हैं कि सत्ता में आने के बाद हम क्या-क्या करेंगे। 

सत्ता में आने के बाद अब जब हम लोगों के बीच जाते हैं तो उन्हें बताते हैं कि आप ने अब तक साथ देकर जिन उम्मीदों के साथ हमें जितवाया है, अब आपने अगले कुछ समय के लिए हमारा साथ देना है ताकि हम आपके साथ किए वादे पूरे कर सकें और लोग भी सब समझ रहे हैं।

जल्दबाजी में लाई गई पॉलिसियां अक्सर फेल हो जाती हैं
आप के हलके में रेत का बहुत ज्यादा शोर रहा है। अब स्थिति क्या चल रही है?  इस पर विधायक ने कहा कि अवैध माइिंनग किसी भी हालत में होने नहीं देंगे। हमारा अपना रेत का कारोबार रहा है और हम अच्छी तरह समझते हैं कि जायज क्या है और नाजायज क्या है। अवैध माइनिंग के खिलाफ हमें कोई लड़ाई भी लडऩी पड़ी तो मैं पीछे नहीं हटूंगी। सरकार रेत पर पॉलिसी लेकर आ रही है। तैयारी के लिए कुछ समय चाहिए, क्योंकि जल्दबाजी में लाई गई पॉलिसियां अक्सर फेल हो जाती हैं। सरकार ने रेत की कुछ खड्डें रिलीज कर दी हैं ताकि बाजार में रेत की आसमान छूती कीमतें कम हो सकेंं ।  

नकोदर को मिलेगा 100 बैड का अस्पताल
सेहत, शिक्षा, पानी और बिजली आम आदमी पार्टी का मुख्य विषय रहा है। आप अपने हलके को लेकर कौन से काम करने जा रही हैं तो मान ने बताया कि सबसे पहले शहर में सड़कों की हालत सुधारना और इसके साथ-साथ मेरी मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के साथ नकोदर के सिविल अस्पताल को 100 बैड का बनाने की बात हुई है। मुख्यमंत्री ने प्रपोजल लाने के कहा है। इसके लिए प्रोजैक्ट तैयार करना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि नकोदर धार्मिक स्थलों का शहर है। लाखों लोग इन धार्मिक स्थलों पर नतमस्तक होने आते हैं। इसलिए शहर की हरेक सड़क को पक्का किया जाएगा ताकि लोगों को नकोदर में आकर कोई परेशानी न हो।

अकाली दल में हो रही थी अनदेखी
जब विधायक से पूछा गया कि आप लंबे समय तक शिरोमणि अकाली दल में रहे और अचानक आम आदमी पार्टी में आना कैसे हुआ, तो उन्होंने एक बड़ा कारण अकाली दल में अनदेखी और पार्टी लीडरों द्वारा डिग्रेड करना बताया। उन्होंने बताया कि 2017 में भी आम आदमी पार्टी ने उन्हें अप्रोच किया था। 

इस बार जब मैंने दिल्ली में आप की सरकार द्वारा जनहित में किए कार्यों को देखा तो पार्टी में आने का मन बनाया।  कुछ लोग दिल्ली से थे और कुछ पंजाब से नेता थे जो मुझे ‘आप’ में लेकर आए। स्वयं पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने पार्टी में मेरी ज्वाइङ्क्षनग करवाई थी। इस बीच उन्होंने बताया कि वह राजनीति छोडऩा चाहती थीं, क्योंकि मैं लोगों की सेवा करना चाहती थी लेकिन जब पार्टी ने लोगों के लिए कुछ करने को कहा तो मैंने ‘आप’ की टिकट पर चुनाव लडऩे का मन बताया और लोगों ने मुझ पर विश्वास जताया। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News