बेटा सरहद पर हार गया जिंदगी की जंग, पिता किसान मोर्चे पर डटे थे दिल्ली में...

punjabkesari.in Saturday, Nov 28, 2020 - 02:22 PM (IST)

तरनतारन, फत्याबाद (कमल / बलविन्दर कौर): जिला तरनतारन के गांव खुवासपुर का 22 वर्षीय सुखबीर सिंह रंधावा गत दिवस कश्मीर के राजौरी सैक्टर में ड्यूटी दौरान पाकिस्तानी गोलीबारी में शहीद हो गया, जिसके शहीद होने की खबर जैसे ही परिजनों तक पहुंची तो परिवार सहित पूरे गांव में शोक की लहर छा गई। सुखबीर सिंह का पिता कुलवंत सिंह इस समय खेती कानूनों के खिलाफ धरने में शामिल होने के लिए दिल्ली गए हुए थे, जहां उनके पुत्र की शहादत की ख़बर मिली। भारतीय किसान यूनियन एकता  उगराहां ने यह जानकारी अपने फेसबुक पेज पर सांझी करके परिवार के साथ दुख सांझा किया है।

PunjabKesari


शहीद सुखबीर के गांव में छाया मातम
गांव ख्वासपुरा में उस समय मातम छा गया जब वहां यह सूचना पहुंची कि राजौरी में भारतीय सीमा की रक्षा करते हुए उनके गांव का बेटा सुखबीर सिंह शहीद हो गया है। सुखबीर 2 साल पहले ही सेना में भर्ती हुआ था। शहीद सुखबीर के परिजन व गांव के लोग उसकी मौत पर दुखी तो हैं।

PunjabKesari

 उन्हें इस बात का गर्व भी है कि उनके बेटे ने देश के लिए शहादत पाई है। शहीद के पिता ने पहले भारत माता की जय के नारे लगाए, फिर बेटे की तस्वीर गले से लगाकर रोने लगे। वहीं शहीद की मां जसबीर कौर अपनी सुधबुध खो बैठी हैं।  शहीद सुखबीर सिंह की मृत देह आज उसके गांव पहुंच जाएगी, जहां पूरे सरकारी सम्मान से उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा।


 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Vatika

Related News

Recommended News