बंदी सिंहों की रिहाई को लेकर दादूवाल ने SGPC को लिखा पत्र, सुखबीर बादल को लेकर की यह मंग

punjabkesari.in Monday, May 23, 2022 - 01:10 PM (IST)

अमृतसर : पिछले कई सालों से जेलों में बंद बंदी सिंहों की रिहाई का मुद्दा पंजाब की सिख राजनीति में आज चर्चा का विषय बनता जा रहा है। इस मामले के संबंध में हरियाणा गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान जत्थेदार बलजीत सिंह दादूवाल ने एस.जी.पी.सी. प्रधान हरजिंदर सिंह धामी को पत्र सौंपा। इस पत्र में दादूवाल ने शिरोमणी कमेटी के प्रधान धामी को सुखबीर सिंह बादल को सिख कैदियों की रिहाई के लिए बनाए पैनल से से बाहर करने की मांग की है। 

दादूवाल ने आरोप लगाया कि अकाली-भाजपा सरकार के दौरान सुखबीर सिंह बादल की भूमिका पंथ विरोधी रही है। उन्होंने सिख पंथ को नुक्सान पहुंचाया है। सुखबीर बादल ने सिख प्रचारकों पर झूठे केस दर्ज करवाए हैं और इन्हे आर.एस.एस. का एजेंट बताता रहा है। दादूवाल ने कहा कि इसलिए ऐसे घृणित काम करने वाले व्यक्ति को बंदी सिंहों की रिहाई के लिए कमेटी में शामिल करने की कोई जरूरत नहीं।

इस संबंध में शिरोमणी कमेटी मैंबर भाई राम सिंह ने कहा कि "लंबे समय से लटकते आ रहे मुद्दे को लेकर सिख जत्थेबंदियां एक सांझे मंच पर आ गई हैं। दादूवाल के प्रधान ने पैनल का गठन करते हुए सभी प्रमुख सिख संस्थायों को नुमाइंदगी दी है। इस दौरान दादूवाल और कुछ अन्य मैंबर नहीं चाहते कि पैनल की कोशिशें सफल हों।’’ इस पंथक एकता के साथ जेल में बंद सिख कैदी को रिहा करने की एक उम्मीद पैदा हुई है पर इसे पटड़ी से उतारने की कोशिशों ने सिख कौम को ठेस पहुंचाई है। यह असली मुद्दे से ध्यान हटाने की कोशिश है।

शिरोमणी कमेटी के पूर्व जनरल सचिव अमरजीत सिंह चावला ने कहा कि "दादूवाल का धार्मिक मुद्दों को हल करने की हो रही कोशिशों से तोड़फोड़ करने का इतिहास रहा है। ऐसी ताकतें नहीं चाहती कि सिख कैदियों को रिहा किया जाए। दादूवाल की तरफ से गई टिप्पणी से साजिश की बदबू आ रही है।’’

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News