रियायती टिकट मांगने पर क्लर्क ने हैंडीकैप्ड फौजी से की मारपीट

10/20/2019 2:49:11 PM

लुधियाना (गौतम): देश की सुरक्षा के लिए अपनी जान पर खेलने वाले फौजी को रियायती रेल टिकट पाने के लिए अपमानित होना पड़ा। टिकट मिलना तो दूर गुस्साए टिकट बाबू ने उसके मुंह पर मुक्कों से वार कर दिए। जब वह शिकायत करने के लिए डिप्टी स्टेशन मास्टर के पास गया तो टिकट बाबू ने वहां पहुंच कर भी उसके साथ गाली-गलौच करते हुए धमकाना शुरू कर दिया। 

फौजी ने शिकायत पुस्तिका में अपनी शिकायत दायर करने के बाद रेल मंत्री व जी.एम. रेलवे को शिकायत कर इंसाफ की मांग की। तरनतारन के रहने वाले 45 साल के पूर्व फौजी हरभाल सिंह ने बताया कि वह सिख बटालियन में था और ड्यूटी के दौरान कुपवाड़ा में हुए बम ब्लास्ट के दौरान उनकी एक टांग कट गई और कमर में पत्थर लगने के कारण रॉड पड़ी हुई है। सरकार की तरफ से उसका हैंडीकैप्ड का कार्ड बना हुआ है। वह तरनतारन से डी.एम.सी. में अपने इलाज के लिए आया था। वापसी पर वह रेलवे स्टेशन पर विंडो नंबर 2 जोकि हैंडीकैप्ड, महिलाओं व सीनियर सिटीजन के लिए है, टिकट लेने के लिए गया।

ड्यूटी पर तैनात कर्मी को उसने अपना हैंडीकैप्ड का कार्ड दिखा कर टिकट मांगा तो उसने भला-बुरा कहना शुरू कर दिया। उसने टिकट के लिए 100 रुपए का नोट दिया तो उसने 30 रुपए खुले देने के लिए कहा। मना करने पर टिकट बाबू ने यह कह कर अपमानित किया कि सस्ती टिकट मिलने के कारण हैंडीकैप्ड लोग बिना वजह ही इधर-उधर घूमते रहते हैं। उसने फिर टिकट देने की प्रार्थना की तो वह सीट से उठकर चला गया। करीब 15 मिनट के बाद वापस आया, जैसे ही उसने दोबारा अपने दस्तावेज दिए तो उसने उठा कर फैंक दिए और उसके मुंह पर मुक्के मारने शुरू कर दिए। जब इस संबंध में स्थानीय अफसरों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि शिकायत फिरोजपुर व नई दिल्ली अफसरों को भेज दी गई है।  


Vatika

Related News