पंजाब में बढ़ते कोरोना मामलों के बीच सरकार की आम आदमी को राहत

punjabkesari.in Thursday, Sep 03, 2020 - 04:56 PM (IST)

चंडीगढ़: पंजाब में तेजी से बढ़ते कोविड के मामलों पर चिंता जताते हुए सरकार ने आम आदमी की सुविधा के लिये जांच दरों में कटौती की है। अब प्राइवेट लैब भी सरकार द्वारा निर्धारित रेटों से ज्यादा नहीं ले सकेंगे। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कल यहां कहा कि वाजिब रेटों व टैस्ट की सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए सरकार की तरफ से प्राइवेट लैब के लिए कोविड-19 के टैस्टों के रेट तैय कर दिए हैं।

अब प्राइवेट लैब की तरफ से कोविड-19 के एक आरटी-पीसीआर टैस्ट के लिए ज्यादा से ज्यादा 2400 रुपए और रैपिड ऐंटीजन टैस्टिंग (आरएटी) के लिए हजार रुपए से घटा कर अब 700 रुपए कर दिए गए हैं, जिसमें जीएसटी व अतिरिक्त टैक्स शामिल होंगे। जबकि घरों में सैंपल एकत्र करने की अतिरिक्त सुविधा के लिए रेट प्राइवेट लैब की तरफ से अपने स्तर पर तय किए जाएंगे। आईसीएमआर की तरफ से स्वीकृत 45 प्राइवेट लैब की तरफ से किए जा सकते हैं। जबकि राज्य के 600 सरकारी अस्पतालों में यह टैस्ट की सुविधा सरकार की तरफ से बिल्कुल मुफ्त दी जा रही है। कोविड-19 महामारी से पैदा हुये हालात का सामना करने के लिए सबको मिलकर इससे जंग लड़ने तथा आपसी सहयोग की ज़रूरत है।

इस बीमारी को रोकने के लिए संक्रमण का जल्दी पता लगाया जाना जरूरी है । बीमारी के फैलने तथा इससे मौत के मुख्य कारण हैं कि लक्षण होने के बावजूद लोग स्वास्थ्य संस्थाओं को देरी से सूचित करते हैं, जिसके चलते कोविड-19 के टैस्ट में देरी हो जाती है और कई बार इसके गंभीर परिणाम सामने आते हैं। प्रदेश सरकार के अनुसार संदिग्ध मरीजों को टैस्ट करवाने के लिए डाक्टर की पर्ची की ज़रूरत नहीं है और टैस्ट पाजिटिव आने पर मरीज अपने घरों में आईसोलेट हो सकते हैं। मामूली लक्षण जैसे कि बुख़ार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, शरीर दर्द, थकावट, स्वाद व सूंघने की शक्ति का कम होना, बहता नाक आदि हैं तो कोविड-19 मरीज के संपंकर् में आए हैं तो कोविड-19 टैस्ट ज़रूर करवाएं। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Vatika

Related News

Recommended News