जिला शिक्षा विभाग ने प्राइवेट स्कूलों की जांच दौरान जारी किए चेतावनी पत्र

punjabkesari.in Saturday, Apr 23, 2022 - 10:44 AM (IST)

अमृतसर (दलजीत): पंजाब सरकार के आदेशों के बाद जिला शिक्षा विभाग की तरफ से 15 ब्लाकों में गठित की 15 जांच टीमों ने शुक्रवार को 116 प्राईवेट स्कूलों में जांच की। इनमें से 32 स्कूलों में फीसों में वृद्धि, किताबें और वर्दियों को लेकर चेतावनी पत्र जारी किया गया और दो दिन का समय दिया गया कि वह पंजाब स्कूल शिक्षा विभाग की तरफ से जारी नियमों अनुसार किताबें, वर्दियां देने वाले दुकानों की सूची नोटिस बोर्ड पर प्रकाशित करें। 

यह भी पढ़ें :  भारत-पाक सीमा पर दिखा पाकिस्तानी ड्रोन, BSF ने किए 165 राउंड फायर

जिला शिक्षा दफ्तर में बनाए गए कंट्रोल रूम में अलग-अलग स्कूलों की 4 शिकायतें मां-बाप ने की। शुक्रवार को 12वीं की परीक्षाएं शुरू होने के कारण ज्यादातर सरकारी कर्मचारी परीक्षायों में व्यस्त हुए थे जिस कारण चैकिंग मुहिम धीमी रही। मां-बाप ने कंट्रोल रूम में मुख्य तौर पर प्राईवेट स्कूलों में फीसों में वृद्धि, स्कूलों में से किताबें और वर्दियां खरीदने की शिकायतें की।

सरकारी नियमों की हर हालत में पालना की जाएगी
जिला शिक्षा अफसर सेकेंडरी जुगराज सिंह रंधावा ने कहा कि सरकारी नियमों की हर हालत में पालना की जाएगी। स्कूलों का निरीक्षण करते यदि किसी मां-बाप को कोई शिकायत हो तो वह सीधे नोडल अफसरों के साथ संपर्क कर सकता है।

लगातार जांच की जा रही: राजेश शर्मा
दूसरी तरफ जिला शिक्षा अफसर एलिमेंट्री राजेश शर्मा ने बताया कि ब्लाक शिक्षा अफसर की तरफ से स्कूलों में रिकार्ड की लगातार जांच की जा रही है। जिस रिकार्ड में छोटी-मोटी खामियां हैं उनको 2 दिनों की चेतावनी देकर ठीक किया जा रहा है। राजेश शर्मा ने कहा कि मां-बाप की शिकायतें लगातार नोडल अफसरों के पास आ रही हैं और माता पिता भी कंट्रोल रूम में अपनी, शिकायतें दर्ज करवाएं।

यह भी पढ़ें : CBSE ने जारी किया 10वीं और 12वीं का Syllabus, ऐसे करें Download

गली-मोहल्लों में चलने वाले स्कूल शिक्षा विभाग के मापदंडों को नहीं कर रहे पूरा
सरकार की अनदेखी कारण गली-मोहल्लों में चलने वाले स्कूल शिक्षा विभाग के मापदंडों को पूरा नहीं कर रहे। यह स्कूल न तो सरकारी गाइडलाइन अनुसार विद्यार्थियों को शिक्षा दे रहे हैं और न इनमें योग्य स्टाफ है। सरकार की लापरवाही कारण इन स्कूलों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। यह स्कूल अपनी हर रोज कमाई बढ़ा रहे हैं और सरकारी गाइडलाइन की पालना भी नहीं कर रहे हैं। सरकार को इन स्कूलों के रिकार्ड की जांच करवानी चाहिए जिससे सरकारी निर्देशों की जहां पालना हो सके और बच्चे अच्छे माहौल में बढ़िया शिक्षा हासिल कर सकें।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News