CM मान को शिक्षा प्रोवाइडर अध्यापकों ने दी शुभकामनाएं, रखी यह मांग

punjabkesari.in Monday, Mar 28, 2022 - 10:45 AM (IST)

संगरूर (विजय कुमार सिंगला): शिक्षा प्रोवाइडर अध्यापक यूनियन पंजाब के बुलाने पर बड़ी संख्या में कच्चे अध्यापकों ने मान सरकार को कच्चे अध्यापकों को पक्के करन के वायदे याद करवाते मुख्यमंत्री पंजाब की रिहायश की तरफ संगरूर में स्वागती मार्च किया। प्रैस को जानकारी देते पंजाब प्रधान मनिन्दर मरवाहा और राज्य प्रेस सचिव इन्द्रजीत सिंह ने कहा कि लगभग 5 हजार शिक्षा प्रोवाईडर (कच्चे अध्यापक) पिछले 18 वर्षों से आर्थिक और मानसिक परेशानियां बर्दाश्त कर शोषण का शिकार हो रहे हैं। पिछली सरकारों ने बार-बार वादे किए परन्तु पूरे नहीं हुए। शिक्षा प्रोवाइडर कम तनख्वाहों पर लम्बे समय से नरक भरी जिंदगी जी रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः CM भगवंत मान आज करेंगे बड़ी घोषणा, Tweet कर दी जानकारी

PunjabKesari

आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर आशा जागी है कि कच्चे अध्यापकों को पक्का किया जाएगा। ‘आप’ सुप्रीमो अरविन्द केजरीवाल और मुख्यमंत्री पंजाब भगवंत मान ने कच्चे अध्यापकों के धरने में मोहाली में पहुंच कर पहली कैबिनेट मीटिंग में पक्के करन का वायदा किया था जिसके अंतर्गत ही शिक्षा प्रोवाइडर यूनियन पंजाब की तरफ से समूह जिला समितियों के इकट्ठ के साथ विधायिका नरिन्दर कौर भराज और माता हरपाल कौर द्वारा मुख्यमंत्री पंजाब को सरकार बनने पर शुभकामनाएं देकर मुख्यमंत्री पंजाब को अपने आर्थिक हालात बताए और किए वायदे याद करवाए गए।

यह भी पढ़ेंः हरभजन सिंह ने 'आप' हाईकमान का किया धन्यवाद, ट्वीट कर कही यह बात

इस मौके राज्य जनरल सचिव गुरमीत सिंह ने बताया कि चाहे पंजाब के 35000 कच्चे मुलाजिमों को पक्का किए जाने का ऐलान किया है, जो एक सराहनीय प्रयास है परन्तु यहां जिक्रयोग्य है कि इस बात से पता नहीं लग रहा कि कौन से मुलाजिम पक्के किए जाएंगे क्योंकि पंजाब में कच्चे मुलाजिमों की संख्या ज्यादा है, शिक्षा प्रोवाइडर अध्यापकों ने मान के पास यही मांग रखी है कि स्पष्ट किया जाए कि पक्के किए जा रहे 35000 मुलाजिमों में कच्चे अध्यापकों को शामिल किया जाए और जब तक इस सम्बन्धित कानून बनेगा, कच्चे अध्यापकों की दिल्ली सरकार के आधार पर तनख्वाह 36000 की जाए। इस स्वागती मार्च में सीनियर उपप्रधान मनप्रीत मोगा, उपप्रधान गुरप्रीत गुरी, प्रीत मान रिम्पलजीत मुक्तसर आदि ने संबोधन किया। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News