पाकिस्तान की जेलों में बंद वो 17 भारतीय कैदी, तश्दत कारण हो चुके है पागल

punjabkesari.in Thursday, Jun 17, 2021 - 06:05 PM (IST)

गुरदासपुर, पाकिस्तान (विनोद): पाकिस्तानी जेलों मे बंद पाकिस्तानी गुप्तचर ऐजैंसियों की तश्दत का शिकार 17 भारतीय नागरिक एैसे पाकिस्तानी मे सड़ रहे है जो तश्दत के कारण अपनी पहचान तक भूल चुके है। बेशक पाकिस्तान सरकार इन लोगों की फोटो भारतीय दूतावात को भेज कर इनकी पहचान करवाने की बात बीते पांच वर्ष से कर रही है,परंतु उसके बावजूद यह लोग पाकिस्तान तथा भारत सरकार की अपेक्षा के चलते अपनी सजाऐं पूरी होने के बावजूद पाकिस्तान की विभिन्न जेलों मे सड़ रहे हैं।

सीमापार सूत्रों के अनुसार जो 17 भारतीय नागरिक पाकिस्तान की विभिन्न जेलों मे सजा पूरी होने के बावजूद जेलों मे बंद है उनमे चार महिलाए भी शामिल हैं। इन 17 कैदियों मे से जो चार महिलाए पाकिस्तान की जेलों मे बंद है उनमे नाम गिरफ्तारी के समय लिखवाए रिकार्ड अनुसार गुल्लु जान,अजमीरा,नकवया तथा हसीना है। उन्होने गिरफ्तारी के समय अपना नाम सही लिखवाया था या गल्त यह अभी स्पष्ट नही है। सूत्रों के अनुसार जो अन्य भारतीय इन सूचि मे है उनमे सोनू सिह,सुरिन्द्र माहतो,प्रहालद सिंह,सिलरोफ सलीम,बिरजू,राजू,बिपला,रूपी पाल,पववासी लाल,राजू मोहोली,श्याम सुंदर,रमेश तथा राजू राए के नाम शामिल हैं।

रिकार्ड अनुसार इन सभी पर पाकिस्तान मे भारत के लिए जासूसी करने का आरोप है तथा इन पर पाकिस्तानी गुप्तचर व जांच ऐजैंसियों ने इतना अधिक तश्दत किया है कि यह अपनी नाम पता तक भूल चुके है तथा अधिकतर वर्जुग हो चुके है। यह सभी अपनी  सजाए पूरी कर चुके है तथा पाकिस्तान सरकार अब इन कैदियों को अपने पर बोझ समझती है। इस लिए वह भारत सरकार से बार बार इन कैदियों की पहचान कर रिकार्ड भेजने के लिए कह रही है,परंतु भारत सरकार इन कैदियों संबंधी पाकिस्तान सरकार को बीते 6 साल से कौई जवाब नही दे रही है। लगता है कि इन 17 भारतीय कैदियों की अब मौत भी पाकिस्तान मे होगी। क्योंकि यह सभी मानसिक रूप मे पूरी तरह से कमजोर है तथा कुछ तो बोलने सुनने के काबिल भी नही हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vatika

Related News

Recommended News