पावरकाम को मिली चेतावनी, पंजाब पर फिर मंडरा सकता है ब्लैक आउट का खतरा

punjabkesari.in Sunday, Nov 28, 2021 - 10:18 AM (IST)

अमृतसर (रोमन‌): पी.एस.ई.बी. इंजीनियर एसोसिएशन ने पावरकाम के चेयरमैन कम मैनेजिंग डायरैक्टर को पत्र लिख कर पंजाब की सारी बिजली स्पलाई फेल होने और ब्लैक आउट होने के खतरे की चेतावनी दी है। इंजीनियर एसोसिएशन की तरफ से इस पत्र की कापी पंजाब सरकार के उच्च आधिकारियों को भेजने के साथ-साथ पंजाब के सभी एम.एल.ए. और एम.पी. को भी भेजी है। इस संबंधी जानकारी पी.एस.ई.बी. इंजीनियर्स एसोसिएशन के सीनियर एंड ज्वाइंट सैक्रेटरी जी.एस. खहरा और ज्वाइंट सचिव इंजी. टी.पी. सिंह ने बातचीत सांझी करते दौरान दी।

यह भी पढ़ेंः CM चन्नी के दौरे से पहले कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन, पुलिस के साथ हुई हाथापाई

ज्यादातर कर्मचारी यूनियनों मांगों के संबंध में सामूहिक छुट्टी पर
जिक्रयोग है कि पावरकाम और ट्रांसको के ज्यादातर कर्मचारी यूनियन अपनी, मांगों के संबंध में 15 नवंबर से सामूहिक छुट्टी लेकर लगातार रोष प्रदर्शन कर रहे हैं। इन यूनियनों ने इस सामूहिक छुट्टी के प्रोग्राम को आगे बढ़ाते हुए 2 दिसंबर तक लगातार जारी रखने का फैसला किया है। कर्मचारियों की तरफ से छुट्टी पर चले जाने के कारण पंजाब के सभी ग्रिड खाली हो गए हैं। इस हंगामी हालत में इंजीनियर खुद ग्रिडों ड्यूटी करके हालात को संभालने में लगे हुए हैं जिससे पंजाब को सारी बिजली सप्लाई फेल होने और ब्लैक आउट के खतरे से बचाया जा सके

यह भी पढ़ेंः PPCC प्रधान नवजोत सिद्धू ने सुखबीर बादल को दिया चैलेंज

ग्रिडों पर एमरजेंसी जैसे हालात
ग्रिडों पर एमरजेंसी हालातों से निपटने के लिए बहुत-से इंजीनियरों को घरों से 100-200 किलोमीटर दूर लगातार 36-36 घंटे या इससे ज्यादा ड्यूटी निभानी पड़ रही है। इस ड्यूटी दौरान जहां हड़ताली कर्मचारियों की तरफ से इंजीनियरों के साथ दुर्व्यवहार किया जा रहा है। उन पर जाति हमले करके वीडियो बना कर सोशल मीडिया पर वायरल की जा रही है। वहीं किसी खराबी के कारण सप्लाई बंद होने पर कई स्थानों पर खपतकारों के गुस्से का ड्यूटी कर रहे इंजीनियरों को सामना करना पड़ रहा है। दूर-दराज ग्रिडों पर तैनात इंजीनियरों की तरफ से पूर्ण सहयोग देने के बावजूद पावरकाम मैनेजमेंट ड्यूटी कर रहे इंजीनियरों को सुरक्षा और बुनियादी मानवीय जरूरतों जैसे भोजन, वाशरूम, मैडिकल सहूलियतें प्रदान करने में नाकाम रही है। इन हालातों में ग्रिड पर ड्यूटी निभाते हुए फिरोजपुर के अतिरिक्त पर्यवेक्षण इंजीनियर अजय कुमार की डेंगू की लपेट में आने कारण मौत हो गई, जिस कारण इंजीनियरों में भारी रोष पाया जा रहा है।

यह भी पढ़ेंः मोहाली पहुंचे केजरीवाल, इन मंत्रियों समेत अध्यापकों के धरने में हुए शामिल

समस्या का तुरंत किया जाए निपटारा
इंजीनियर एसोसिएशन ने मैनेजमेंट को चेतावनी दी है कि हड़ताल पर चल रहे कर्मचारियों के साथ बातचीत करके तुरंत समस्या का निपटारा किया जाए और सहायक इंजीनियर के तनख्वाह स्केल मामले को मैनेजमेंट के साथ हुई सहमति अनुसार इसे लागू किया जाये। यदि मैनेजमेंट समस्याओं को हल करने में असफल रहती है तो सभी इंजीनियर 30 नवंबर से अपने मोबाइल फोन अनिश्चित समय के लिए बंद और 1 दिसंबर से उनसे नीचे वाले सदस्य भी ड्यूटी करने से इन्कार कर देंगे।

यह भी पढ़ेंः खालिस्तानी गैंगस्टर समर्थक द्वारा इस नेता को मिली जान से मारने की धमकी

किसी भी ब्लैक आउट की जिम्मेदारी पावरकाम मैनेजमेंट की होगी
पी.एस.ई.बी. इंजीनियर्स एसोसिएशन के सीनियर एंड ज्वाइंट सैक्रेटरी जी.एस. खहरा ने कहा कि पंजाब में होने वाले किसी भी ब्लैक आउट की जिम्मेदारी पावरकाम मैनेजमेंट की होगी। इसके इलावा उन्होंने कहा कि यदि दूर-दराज ग्रिडों पर लगातार 24 घंटे तैनात इंजीनियरों को सुरक्षा और बुनियादी सहूलियतें जैसे भोजन, वाशरुम, मैडीकल सुविधा और अपेक्षित आराम तुरंत नहीं मुहैया करवाया गया तो इंजीनियर ऐसे ग्रिडों को उपरोक्त समय सीमा से पहले छोड़ने के लिए मजबूर हो जाएंगे। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News