जेल में बंद कैदी के बाल काटने का मामला पकड़ने लगा तूल

punjabkesari.in Sunday, Jul 03, 2022 - 11:14 AM (IST)

बठिंडा (विजय): सेंट्रल जेल बठिंडा में बंद अमृतधारी कैदी राजवीर सिंह के बाल काटने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। परिवार पुलिस व जेल प्रबंधकों पर आरोप लगा रहा है। वहीं जेल प्रशासन ने कैदी पर भागने का आरोप लगाया है। शनिवार को पुलिस ने कैदी राजवीर सिंह और पूर्व सरपंच गुरदीप सिंह रानो को बठिंडा कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड मांगा, लेकिन राजवीर के वकील हरपाल सिंह खारा की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने उन्हें रिमांड पर भेजने से इंकार कर दिया।

वहीं अदालत ने कैदी राजवीर सिंह का मेडीकल सिविल अस्पताल बठिंडा से करवाने के आदेश पुलिस को दिए। पुलिस जब दोनों को कोर्ट में लेकर आई तो कैदी राजवीर सिंह ने जज को सिर के कटे बाल और शरीर पर चोट के निशान भी दिखाए। कैदी राजवीर सिंह ने आरोप लगाया कि सेंट्रल जेल बठिंडा के कर्मचारियों ने उन्हें पीटा और उसके बालों की बेअदबी भी की जबकि उनकी कोई गलती नहीं थी। जब भी वह अपने अधिकारों के लिए आवाज उठाते हैं, तो उन्हें जेल में पीटा जाता है।

इस मौके पर नाथपुर जिला गुरदासपुर निवासी पीड़िता राजवीर की मां प्रभजोत कौर ने भी मामले की जांच की मांग करते हुए आरोप लगाया कि सेंट्रल जेल बठिंडा के कर्मचारियों द्वारा उसके बेटे के साथ बदसलूकी की गई, बेवजह पीटा गया।

उन्होंने आरोप लगाया कि घटना उसके बेटे के साथ बीती 26 जून को हुई थी, लेकिन पुलिस ने उनके बेटे के खिलाफ 28 जून को जेल से भागने और अपने बचाव में वार्डन को पीटने का झूठा मामला दर्ज किया है। पीड़िता की ओर से पेश वकील हरपाल सिंह खारा ने कहा कि जेल में एक सिख युवक की पिटाई बेहद निंदनीय है।

उन्होंने कहा कि पीड़ित का इलाज कोर्ट के आदेश के बाद हुआ है। उन्होंने कहा कि अदालत की अनुमति के बाद उन्होंने कैदी राजवीर सिंह के शरीर पर चोटों के निशान की तस्वीरें भी ली हैं। एडवोकेट खारा ने आरोप लगाया कि उन्हें भी मामले से हटने के लिए पुलिस द्वारा धमकी दी जा रही है।

मामले को लेकर जेल अधीक्षक एन.डी. नेगी ने कहा कि कैदी खुद को बचाने के लिए बेबुनियाद आरोप लगा रहा है, जबकि उसने जेल वार्डन को पीटा था और उसकी पगड़ी तक उतरा दी थी, जबकि लोहे की पत्ती से हमला कर जेल के दो कर्मियों को घायल तक कर दिया था। गौरतलब है कि इस मामले को विधायक सुखपाल सिंह खैरा ने एक ट्वीट में उठाया था और सरकार से जांच की मांग भी की थी और उस ट्वीट में जेल मंत्री हरजोत सिंह बैंस ने मामले की जांच के आदेश दिए थे।

जेल प्रशासन ने कैदी पर जेल ब्रेक का लगाया आरोप
जेल अधिकारियों ने दावा किया था कि कैदी राजवीर सिंह और गुरदीप सिंह रानो ने बीती 28 जून को जेल वार्डन की पिटाई कर भागने की कोशिश की थी। पुलिस ने मामले में इनके खिलाफ मामला दर्ज किया था।

कुछ दिन पहले जेल अधिकारियों ने दावा किया था कि उन्होंने कैदी राजवीर सिंह से पांच सिम कार्ड व एक मोबाइल फोन बरामद किए हैं। इसी मामले में राजवीर के खिलाफ बठिंडा के थाना कैंट में भी मामले दर्ज किया गया है। थाना केंट के एस.आई. कर्मजीत सिंह ने बताया कि आरोपी राजवीर सिंह और गुरदीप सिंह रानो को अदालत ने जेल भेज दिया है।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News