सुखबीर सिंह बादल ने किया CM चन्नी पर वार, कोयला संकट को लेकर कही यह बात

10/11/2021 12:01:14 PM

अमृतसर (छीना): पंजाब में गहरा रहा बिजली संकट कांग्रेस सरकार की तरफ से पहले योजनाबंदी और तैयारी के मामले में चूक ही नालायकी और गैर-जिम्मेदारी का सीधा नतीजा है। यह विचार शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने हलका पश्चिमी से उम्मीदवार डा. दलबीर सिंह वेरका के नेतृत्व में हुई मीटिंग को संबोधन करते प्रगट किए। उन्होंने कहा कि यह पंजाब की प्रशासकी कमजोरी का हिस्सा है क्योंकि सत्ताधारी पार्टी तो सत्ता के खेल और बदलाखोरी की राजनीति में लगी है।

सुखबीर ने कहा कि बिजली संकट तो आना ही था और कोयले की कमी के साथ कोई लेना-देना नहीं है। कोयला मंत्रालय तो पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि देश में कहीं भी कोयला सप्लाई की कमी नहीं है। इससे स्पष्ट साबित होता है कि पंजाब सरकार ही असली विलेन है और यह ऐसे हालात के साथ अपेक्षित कोयला भंडार करने में नाकाम रही है। उन्होंने कहा कि पंजाब को बिजली सरप्लस राज्य बनाया था परन्तु कांग्रेस सरकार के राज में लोग फिर बिजली कटों के साथ जूझ रहे हैं।

उन्होंने बिजली उपलब्धता की क्रांति लाने साथ ग्रीन एनर्जी पर विशेष जोर दिया था। उनका कहना है कि जब 2007 में उन्होंने सत्ता संभाली थी तो उस समय पर राज्यों में 14 से 16 घंटे बिजली कट लगते थे। उन्होंने पंजाब को बिजली सरप्लस बनाने का वादा किया था और लोगों को गर्मियों के शिखर में भी बिजली कट भुला दिए थे। कांग्रेस  मौजूदा स्थिति संभालने में नाकाम साबित हुए हैं। मौजूदा बिजली संकट आसानी के साथ देखा जा सकता था और संभाला भी जा सकता था। कांग्रेस के शासकों ने अपनी नालायकी के कारण राज्य को ब्लैक आऊठ के नजदीक पहुंचा दिया है। सुखबीर ने कहा कि मुख्यमंत्री से अपील करते हैं कि वह हर दूसरे दिन दिल्ली भागने की अपेक्षा राज्यों की जिम्मेदारी संभालें।

अमृतसर के दौरे समय सुखबीर सिंह बादल गावल मंडी में वाल्मीकि मंदिर, हनुमान मंदिर और जी. टी. रोड पर जामा मस्जिद, गुरुद्वारा छेहरटा साहिब और गुरुद्वारा बोहड़ी साहिब में भी नतमस्तक हुए। इससे पहले जी.एन.डी.यू. कैंपस के बाहर एस.ओ.आई. की तरफ से बादल का स्नेहपूर्ण स्वागत किया गया। इस समय अनिल जोशी, तलबीर सिंह गिल, गुरप्रताप सिंह टीका, राजिन्दर सिंह मेहता, बावा सिंह गुमानपुरा, बिक्रमजीत सिंह कोटला आदि नेता उपस्थित थे।

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Related News

Recommended News