गिरोह का पर्दाफाश करने वाले की ईमानदारी स्वास्थ्य विभाग पर पड़ी भारी

punjabkesari.in Monday, Jan 24, 2022 - 05:26 PM (IST)

अमृतसर (दलजीत शर्मा): जाली डोप टेस्ट करवाने वाले लोगों का गिरोह स्वास्थ्य विभाग पर भारी पड़ गया। सिविल अस्पताल में जाली डोप टेस्ट पकड़ने वाले लैब टेक्नीशियन को शाबाशी देने की बजाय विभाग द्वारा गिरोह कहने पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा कर्मचारी का डेपुटेशन रद्द कर दिया गया है। सबसे बड़ी बात बिना जांच के डेपुटेशन रद्द करना स्वास्थ्य विभाग की कार्यशैली पर कई प्रश्न खड़े कर रहा है। उधर दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग इंप्लाइज वेल्फेयर एसोसिएशन कर्मचारी के हक में आ गई है तथा उन्होंने विभाग से कर्मचारी का डेपुटेशन दोबारा अस्पताल में लगाने की मांग की है।

जानकारी अनुसार जिला स्तरीय सिविल अस्पताल में पिछले कई समय से जाली डोप टेस्ट करवाने आने वाले लोगों का गिरोह सरगर्म है अस्पताल की लेबोरेटरी में तैनात टेक्नीशियन राजेश शर्मा द्वारा अक्सर ही कई बार जाली डोप टेस्ट करवाने आए कई लोगों को पकड़ा है तथा उच्च अधिकारियों के समक्ष भी पेश किया है इसके अलावा पुलिस को भी विभाग द्वारा शिकायत दर्ज करवाई गई है परंतु अफसोस की बात है न तो पुलिस प्रशासन न ही स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारी जाली डोप टेस्ट करवाने वाले गिरोह का पर्दाफाश अभी तक कर पाए हैं। ईमानदारी तथा मेहनत से काम करने वाले लेबोरेटरी टेक्नीशियन को शाबाशी देने की बजाय उसका डेपुटेशन रद्द कर दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग इंप्लाइज वेल्फेयर एसोसिएशन के चेयरमैन पंडित राकेश शर्मा ने इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है।

एसोसिएशन के चेयरमैन राकेश शर्मा ने स्वास्थ्य विभाग के डायरेक्टर को इस संबंध में पत्र लिखा है। उन्होंने कहा कि राजेश शर्मा के खिलाफ कुछ लोगों ने झूठी शिकायतें विभाग को दी हैं। इन शिकायतों की जांच किए बगैर राजेश शर्मा को यहां से हटाना उचित नहीं। राजेश शर्मा ने कोरोना काल में निष्ठा से काम किया। अमृतसर में 16 जनवरी 2021 को जब टीकाकरण की शुरूआत हुई तो सबसे पहले राजेश ने ही टीका लगवाया था। यहीं बस नहीं डोप टेस्ट की फर्जी रिपोर्ट बनाने वाले गिरोह का भी राजेश ने ही भंडाफोड़ किया था। इससे विभाग में बैठे कुछ बेईमान कर्मचारियों की दुकानदारी बंद हुई। अब ये लोग ही राजेश की झूठी शिकायतें कर उनका तबादला करवाना चाहते हैं।

राकेश शर्मा ने कहा कि राजेश की मेहनत व कार्य कुशलता को देखते हुए जिला प्रशासन ने उसे सम्मानित भी किया था। उनका तबादला करने से कर्मचारी वर्ग में रोष है। ऐसा हुआ तो मेहनत व ईमानदारी से काम करने वाले कर्मचारियों का मनोबल गिरेगा इसलिए विभाग राजेश शर्मा के तबादले पर तुरंत रोक लगाए। जो शिकायत विभाग के पास पहुंची है उसकी निष्पक्ष जांच की जाए।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News