सिसौदिया का बयानः पंजाब में आम आदमी पार्टी की छवि कांग्रेस के लिए चुनौती

punjabkesari.in Monday, Dec 06, 2021 - 12:07 PM (IST)

जालंधर: 2022 की मतदान को लेकर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी दरम्यिान चोटी की टक्कर चल रही है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की तरफ से पंजाब की शिक्षा नीति पर सवाल उठाए जा रहे हैं। उनकी तरफ से दिल्ली माडल को पंजाब में लागू करने की बात कही जा रही है। पंजाब केसरी पत्रकार रमनदीप सिंह सोढी के साथ सिसोदिया ने बातचीत करते जहां दिल्ली की शिक्षा नीतियों पर रौशनी डाली, वहीं पंजाब में रेत माफिया को नकेल डालने की बात कही।

यह भी पढ़ेंः कैप्टन अमरिंदर सिंह ने की सियासी पारी की शुरूआत

आपके मुताबिक पंजाब के लोगों के मन में क्या है?
मैंने पंजाब आकर महसूस किया है कि सभी रिवायतियी पार्टियों से लोग तंग आ चुके हैं। इस बार लोग अरिवन्द केजरीवाल को एक मौका देना चाहते हैं क्योंकि केजरीवाल सिर्फ काम की राजनीति करते हैं। केजरीवाल ने दिल्ली में करके दिखाया है इसलिए लोग चाहते हैं कि पंजाब भी उसी तरह तरक्की करे।

कौन से पांच मसलों पर आप चयन लड़ने जा रहे हो?
पंजाब में व्यापारी वर्ग बड़ा परेशान है। उनकी तमाम मुश्किलों का हल करना बेहद लाजिमी है। किसानी मुद्दा हमारे लिए सबसे अहम है। शिक्षा नीति का बेड़ा नष्ट है। पंजाब के सरकारी स्कूलों की हालत खस्ता हो चुकी है। रेत माफिया बंद करने की जरूरत है। आज भी मुख्यमंत्री के अपने हलके अंदर नाजायज रेत माइनिंग चल रही है जिस बारे राघव चड्ढा ने अपनी जान पर खेल कर खुलासा किया है। ड्रग तस्करी अभी तक बंद नहीं हो सकी। सो मेरा मानना है कि मुख्य तौर पर इन सभी मुद्दों पर काम करन की जरूरत है।

यह भी पढ़ेंः भयानक सड़क हादसा : माता-पिता के इकलौते जवान बेटे की हुई मौत

कांग्रेसी कहते हैं कि शिक्षा मामले में पंजाब पहले नंबर पर है, क्या कहोगे?
पंजाब सरकार कह रही कि हम पांच सालों में पंजाब के स्कूलों की शक्ल बदल दी परन्तु मैं मुख्यमंत्री के हलके में पहुंच कर जांच की तो पता लगा कि 6 हजार रुपए में एक अध्यापक काम कर रहा है, इसी तरह बाकी स्कूलों का हाल है। ऐसी स्थिति में अध्यापक बच्चों को कैसे पढ़ा सकते हैं। यह सरेआम पंजाब के लोगों के साथ धक्का है। इस दौरान जब 'पंजाब केसरी’ की तरफ से सिसोदिया को सवाल पूछा गया कि विरोधियों का कहना है कि पंजाब और दिल्ली के हालात में बहुत फर्क है, तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस को आप लगता है कि वह एक राज्य नहीं चला सकते तो उनको एक तरफ हो जाना चाहिए।

विरोधी कहते हैं जो वायदे पंजाब में कर रहे हो दिल्ली में लागू क्यों नहीं करते?
यदि पंजाब के टैकस में से ही पंजाब की महिलाओं को कुछ फायदा मिले तो इसके साथ विरोधियों को तकलीफ क्यों होती है। जो पैसा पंजाब के लोगों के काम आना चाहिए था, वह नेता खा रहे हैं, आम आदमी पार्टी की सरकार आने पर यही पैसा जनता की भलाई और पंजाब के विकास पर खर्च किया जाएगा। 20 हजार करोड़ रुपया रेत माफिया चोरी कर रहा है यदि यही पैसा पंजाब सरकार के हिस्से आता तो सरकार की बल्ले-बल्ले होती है। जो दिल्ली को चाहिए वही कर रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः नहीं रहे शिरोमणि पंजाब साहित्यकार गुरदेव सिंह रुपाणा

क्या है दिल्ली माडल?
सिसोदिया मुताबिक 6 साल पहले दिल्ली में 7 से 8 घंटो के कट लगते थे। जनरेटर के बिना यहां लोग काम नहीं कर सकते थे परन्तु आज घरों में 24 घंटे बिजली मिल रही है। जो पुल पहले 500 करोड़ रुपए में बनते थे, आज वह साढ़े 300 करोड़ में तैयार हुए। हमारी सरकार ने ईमानदारी के साथ काम किया, और यही पैसा शिक्षा और सेहत सेवाओं पर खर्च किया गया। शिक्षा नीति पर उन्होंने बताया कि उन्होंने दिल्ली के 1000 स्कूलों की नई इमारतें बनवाईं और मूलभूत ढांचे पर काम किया। उन्होंने अपने कार्यकाल दौरान 20000 के करीब अध्यापक भर्ती किए हैं।

पंजाब से ही होगा मुख्यमंत्री उम्मीदवार, जल्दी करेंगे ऐलान
मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पहले ही कह चुके हैं कि विधानसभा मतदान के लिए मुख्यमंत्री पदों का उम्मीदवार पंजाब में से ही होगा। इसका ऐलान बहुत जल्दी कर दिया जाएगा। सिसोदिया ने कहा कि पार्टी की तरफ से इस सभी मामले पर विचार किया जा रहा है। आने वाले दिनों में सारी स्थिति साफ हो जाएगी। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News