ओमिक्रॉन के खतरे के बीच क्या पंजाब में लगेगा Night Curfew या नहीं

punjabkesari.in Tuesday, Dec 28, 2021 - 03:41 PM (IST)

जालंधर (सुनील धवन): विश्व में कोरोना के नए स्वरूप ओमिक्रॉन ने एक बार फिर से भय की लहर पैदा की हुई है तथा ओमिक्रॉन का प्रसार तेजी से हुआ है। भारत में भी पिछले कुछ दिनों से ओमिक्रॉन के केस बढने के कारण रात्रिकालीन लॉकडाऊन लगाया जा रहा है। भारत सरकार ने भी जनवरी, 2022 से वैक्सीनेशन ड्राइव को तेज करने, बच्चों को वैक्सीन लगाने तथा बुजुर्गों को बुस्टर डोज देने का ऐलान कर दिया है। इस संबंध में पंजाब की क्या तैयारियां चल रही हैं उसे लेकर राज्य के उपमुख्यमंत्री ओम प्रकाश सोनी जिनके पास स्वास्थ्य विभाग भी है, से कुछ सवाल किए गए जिनका उन्होंने आंकड़ों सहित जवाब दिया।

* पंजाब में ओमिक्रॉन के अभी तक कितने केस आए हैं?
राज्य में ओमिक्रॉन का अभी तक कोई भी केस नहीं आया है। भारत सरकार ने जिन 12 देशों से आने वाले लोगों को लेकर हवाई अड्डे पर सतर्कता बरतने के लिए कहा था उसे देखते हुए पंजाब के सभी हवाई अड्डों पर संबंधित देशों से आ रहे नागरिकों के मौके पर ही सैम्पल लेकर कोविड के टैस्ट किए जा रहे हैं। अभी तक किसी भी नागरिक का टैस्ट पॉजिटिव नहीं पाया गया है जिस कारण उनमें ओमिक्रॉन के लक्षण नहीं पाए गए हैं।

* पंजाब में अभी सरकार द्वारा रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाने की कोई योजना है या नहीं?
राज्य में अब पंजाब सरकार रात्रिकालीन कर्फ्यू नहीं लगाने जा रही है क्योंकि स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में हैं। ओमिक्रॉन का कोई भी केस नहीं आया। कोरोना के पॉजिटिव केस अवश्य आ रहे हैं परंतु स्थिति गंभीर नहीं है इसलिए न तो रात्रिकालीन कर्फ्यू फिलहाल लगेगा और न ही नववर्ष की पूर्व संध्या पर होने वाले कार्यक्रमों को रोका जा रहा है। जैसे भी आगे परिस्थिति बनेगी उसके अनुसार पंजाब सरकार द्वारा फैसला लिया जाएगा। पंजाब सरकार रोजाना कोविड की समीक्षा कर रही है तथा उसके अनुरूप दिशा-निर्देश जारी किए जा रहे हैं।

* भारत सरकार ने वैक्सीनेशन के नए कार्यक्रम का ऐलान कर दिया है। पंजाब सरकार की इस संबंध में क्या तैयारियां हैं?
भारत सरकार ने 15 से 18 आयु वर्ग के लोगों को कोविड वैक्सीन लगाने का ऐलान किया है। पंजाब में लगभग 24 लाख नौजवान 15 से 18 आयु वर्ग में आते हैं। इस आयु वर्ग को 3 जनवरी से वैक्सीन की डोज लगनी शुरू होनी है। पंजाब भारत सरकार के दिशा-निर्देशों की पालना करेगा।

* 15 से 18 आयु वर्ग के युवाओं को कौन सी वैक्सीन लगने की संभावना है?
अभी तक भारत सरकार ने इस संबंध में स्पष्ट तौर पर दिशा-निर्देश जारी नहीं किए हैं परंतु माना जा रहा है कि इस आयु वर्ग को को-वैक्सीन की डोज लगाई जा सकती है। पंजाब के पास लगभग 10 लाख को-वैक्सीन की डोज स्टॉक में पड़ी हुई है। कल भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव द्वारा पंजाब सहित सभी राज्यों के स्वास्थ्य विभाग के साथ ऑनलाइन कांफ्रेंस की जा रही है। इसमें स्पष्ट तौर पर बता दिया जाएगा कि इस आयु वर्ग को कौन सी कम्पनी की डोज लगनी है।

* भारत सरकार ने 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को बुस्टर डोज लगाने की भी बात कही है। उन्हें कौन सी कम्पनी की बुस्टर डोज लगेगी?
भारत सरकार द्वारा संभवत: कल स्थिति स्पष्ट कर दी जाएगी कि 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को कौन सी कम्पनी की बुस्टर डोज लगाई जाए। इसी तरह से सबसे पहले फ्रंट लाइन हैल्थ वर्करों को बुस्टर डोज लगाने की तैयारियां की जा रही हैं। पंजाब सरकार अपनी ओर से तैयारियों में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगा।

* पंजाब में अभी तक कितने प्रतिशत लोगों को कोविड की वैक्सीन लग चुकी है क्योंकि कोविड से बचाव केवल वैक्सीनेशन से ही संभव है।
पंजाब में 82 प्रतिशत जनसंख्या को कोविड वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। आंकड़ों के हिसाब से राज्य के 1.70 करोड़ लोगों को पहली डोज लग चुकी है। 44 प्रतिशत जनसंख्या अर्थात 90 लाख लोगों को वैक्सीन की दोनों डोजें लग चुकी हैं।

* राज्य में इस समय वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी क्यों चल रही है?
वास्तव में जैसे-जैसे कोरोना का डर खत्म होता गया वैसे-वैसे लोगों ने वैक्सीनेशन में दिलचस्पी लेनी कम कर दी थी परंतु अब जिस तरह से ओमिक्रॉन का खतरा बढ़ा है उसे देखते हुए वैक्सीनेशन के काम में तेजी आने की उम्मीद है। अभी औसत 30 से 40 हजार लोगों को रोजाना वैक्सीन लग रही है।

* दूसरी डोज के तहत कम लोगों ने वैक्सीन लगवाई है। इसमें तेजी लाने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं?
दूसरी डोज के कार्यक्रम को तेजी से लागू करने की तरफ अधिकारियों को निर्देश जारी किए जा चुके हैं क्योंकि जब तक दोनों डोज लग नहीं जाते तब तक कोविड से बचाव संभव नहीं होता है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि अब रोजाना के आधार पर वैक्सीनेशन के कार्यक्रम पर नजर रखी जाए। अब तो बच्चों की भी वैक्सीनेशन लगाने का कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है।

* ओमिक्रॉन को लेकर जागरूकता पैदा करने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं?
ओमिक्रॉन को लेकर वह स्वयं कई बार बैठकें कर चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग लगातार लोगों को जागरूक कर रहा है। ओमिक्रॉन से बचाव के लिए लोगों को सुरक्षात्मक रूप से मास्क लगाकर रखना चाहिए तथा भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप सामाजिक दूरी बनाकर चलना होगा। अभी यह भी रिपोर्टें आ रही हैं कि ओमिक्रॉन का दौर लम्बा नहीं चलेगा। दक्षिण अफ्रीका में भी ओमिक्रॉन चरम सीमा पर पहुंच कर घटना शुरू हो गया है।

*आम आदमी पार्टी पंजाब में प्रचार के दौरान लगातार दिल्ली में लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के दावे करती आ रही है। इसमें कितनी सच्चाई है?
आम आदमी पार्टी की कथनी व करनी में भारी अंतर है। दिल्ली में कोविड की स्थिति बदतर रही थी। पंजाब फिर भी बेहतर रहा था। दिल्ली के लोगों में कोरोना काल में नरक भुगता है। पंजाब में लोगों को सरकारी व सिविल अस्पतालों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल रही हैं। यह बात किसी से भी छिपी हुई नहीं है।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News