ट्रैफिक पुलिस और नगर निगम ने शू मार्कीट के समक्ष किया ‘सरैंडर’

1/31/2020 9:11:49 AM

जालंधर(खुराना): कभी समय था जब लोग ट्रैफिक पुलिस से थर-थर कांपते थे और कभी वह भी समय था जब नगर निगम की तहबाजारी टीम को दूर से देखकर ही लोग भाग जाया करते थे परंतु इन दिनों लगभग सभी सरकारी विभागों का सिस्टम ध्वस्त होता जा रहा है। इसकी स्पष्ट मिसाल ओल्ड जी.टी. रोड पर रैडक्रॉस मार्कीट के बाहर लगती अवैध शू मार्कीट है, जिसके सामने शहर की ट्रैफिक पुलिस और पूरे नगर निगम ने सरैंडर कर दिया है। कुछ दिन पहले ट्रैफिक पुलिस के तमाम उच्चाधिकारियों और जालंधर निगम से संबंधित बड़े अफसरों ने एक बैठक करके ज्वाइंट आप्रेशन चलाया था, जिसके तहत सबसे पहले रैडक्रॉस भवन के बाहर लगती शू मार्कीट को तोड़ दिया गया और उस पूरे क्षेत्र को खाली करवा लिया गया। इसी आप्रेशन के दौरान भगवान वाल्मीकि चौक के आसपास लगती फड़ियों और दुकानदारों द्वारा किए गए अवैध कब्जों को भी हटा दिया गया।

ट्रैफिक पुलिस और नगर निगम के इस ज्वाइंट आप्रेशन का शहर निवासियों ने स्वागत किया क्योंकि इस पूरे क्षेत्र से न केवल ट्रैफिक जाम की समस्या खत्म हो गई बल्कि एम्बुलैंस इत्यादि को आने-जाने के लिए भी रास्ता मिलने लगा। यह स्थिति मात्र कुछ दिन ही रही और इसके बाद नगर निगम तथा ट्रैफिक पुलिस का जोश ठंडा पड़ गया। अब हालात यह है कि रैडक्रॉस मार्कीट के बाहर अवैध शू मार्कीट दोबारा सज गई है और भगवान वाल्मीकि चौक के इर्द-गिर्द भी फड़ियां लग गई हैं। दोनों विभागों से डर कर दुबई ज्यूलर्स के निकट तथा सोढी कलैक्शन से रॉयल ढाबा तक जिन फड़ियों को हटा लिया गया था, वह फड़ियां अब दोबारा सड़क पर ही लग जाने से हर रोज चौक के इर्द-गिर्द ट्रैफिक जाम रहने लगा है। ट्रैफिक पुलिस तथा निगम के इस सरैंडर की शहर भर में खूब चर्चा हो रही है।

PunjabKesari, Traffic Police and MC Surrender in front of Shoe Market

संडे बाजार को लेकर फिर हुई बैठक
पिछले महीने डी.सी. ऑफिस में हुई शिकायत निवारण कमेटी की बैठक में तीखे तेवर दिखाते हुए मेयर जगदीश राजा ने अवैध कब्जों के लिए पुलिस को दोषी ठहराया था जिसके बाद पुलिस अधिकारियों ने निगम में बैठक कर अवैध कब्जों को हटाने और जी.टी. रोड पर लगने वाले संडे बाजार को बंद करवाने का फैसला लिया। इस फैसले के बाद जो ज्वाइंट आप्रेशन चला उसमें शू मार्कीट सहित बाकी कब्जे तो हटा दिए गए परंतु संडे बाजार के मामले में पुलिस और निगम मिलकर भी कुछ नहीं कर पाए क्योंकि वहां मौके पर विरोध खड़ा हो गया। अफसरों द्वारा स्टैंड न लिए जाने के कारण अब तक संडे बाजार जी.टी. रोड पर भी लग रहा है परंतु आज इसी विषय को लेकर मेयर ऑफिस में दोबारा एक बैठक हुई, जिसमें मेयर व कमिश्नर के अलावा ज्वाइंट कमिश्नर हरचरण सिंह, तहबाजारी सुपरिंटैंडैंट मंदीप सिंह, आई.पी.एस. अधिकारी सुडरविजी तथा ट्रैफिक पुलिस के अन्य उच्चाधिकारी उपस्थित थे।

बैठक दौरान फिर फैसला लिया गया कि जी.टी. रोड पर संडे बाजार की फड़ियां लगने की अनुमति नहीं दी जाएगी। संडे बाजार का जो दायरा नकोदर चौक तथा जेल चौक की ओर लगातार बढ़ता जा रहा है, उसे रोका जाएगा और सिर्फ अंदरूनी बाजार में ही संडे बाजार लगाने की अनुमति होगी। अब देखना है कि ट्रैफिक पुलिस के अधिकारी तथा नगर निगम के अफसर व मेयर अपने फैसले पर कितना स्टैंड ले पाते हैं।


Edited By

Sunita sarangal

Related News