पंजाब केसरी के साथ विशेष बातचीत में बरसे चन्नी, राजनीति मसलों पर भी की बात

punjabkesari.in Saturday, Nov 27, 2021 - 12:35 PM (IST)

जालंधर: पंजाब के नए बने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब की सियासत का केंद्र बिंदु बने हुए हैं। चन्नी द्वारा धड़ाधड़ एक के बाद एक किए जा रहे फैसले और दिन-रात लोगों में मौजूदगी जहां उन्हें राजनीतिक तौर पर मजबूत बना रही है, वहीं विरोधी इस सब पर कई तरह के तर्क देकर उनकी आलोचना करते हैं, लेकिन मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की सुनें तो उनका मानना है कि हर शख्स को अपनी चाल चलते रहना चाहिए। उनके मुताबिक दूसरे की लाइन छोटी करने की बजाय खुद की लाइन बड़ी कर लेनी चाहिए। मेरा काम लोगों की जरूरतें पूरी करना है न कि विरोधियों की फालतू बातों में उलझे रहना। उन्होंने कहा कि फिलहाल तो अभी कौवे मारकर टांगे हैं, पिक्चर अभी बाकी है।

पंजाब की मौजूदा राजनीतिक स्थिति, 2022 के चुनाव, कांग्रेस के भविष्य व अरविंद केजरीवाल और अकालियों के तमाम सवालों को लेकर पंजाब केसरी संवाददाता रमनदीप सिंह सोढी ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से विशेष बातचीत की। इस मुलाकात में सी.एम. चन्नी ने जहां राजनीतिक मसलों पर तो बात की, पेश हैं उनके साथ बातचीत के कुछ मुख्य अंश:

यह भी पढ़ेंः गुरदीप सिंह पर गिरी गाज, ई.डी. के बाद अब इस एजेंसी ने की छापेमारी

क्या दलित सी.एम. के जरिए कांग्रेस वोट हासिल करना चाहती है?

दलित सी.एम. के जरिए कांग्रेस के वोट हासिल करने के सवाल पर चन्नी ने कहा कि बेशक वह पिछड़े जातिवर्ग से संबंधित हैं, पर उनके फैसले सभी वर्गों के लिए सांझे हैं। आज उन्होंने पानी की मोटरों के बिल माफ किए हैं, पैट्रोल सस्ता किया है, रेत सस्ता की है, तो यह पूरे पंजाब के लिए है न कि किसी एक वर्ग के लिए। गरीब तो आज भी गरीब है। हालांकि इससे पहले पंजाब में रजवाड़ाशाही सियासत कैप्टन व बादलों के जरिए चलती रही है, इन्होंने हमेशा मैच फिक्सिंग करके पंजाब के लोगों के साथ खेला है, पर वह ऐसा होने नहीं देंगे। यह बदलाव सोनिया गांधी और राहुल गांधी की सैक्यूलर सोच के कारण ही संभव हो पाया है। हालांकि यह भी सच है कि जब फोन पर राहुल ने उन्हें पंजाब संभालने का निर्देश दिया तो एक समय के लिए वह भावुक हो गए थे।

टिकट देना व काटना न मेरे न सिद्धू के हाथ में 
चन्नी से जब नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा खुद की सरकार को मुद्दों पर घेरने और मरणव्रत रखने की चेतावनी का सवाल किया गया तो सी.एम. ने कहा कि सिद्धू उनके प्रधान हैं, उन्हें उनकी चिंता है इसलिए उनकी जान को दाव पर नहीं लगाने देंगे। रही बात ड्रग मामले की, तो वह अभी कोर्ट में है। रही बात मजीठिया की तो उन्होंने उसे साफ शब्दों में कहा कि उसका रोम-रोम किसी न किसी गंदगी से भरा हुआ है। चाहे वो रेत-बजरी की गंदगी है, भले क्रप्शन और ड्रग्स ही क्यों न हों, अगर परमात्मा ने चाहा तो हिसाब बराबर जरूर होगा। 

यह भी पढ़ेंः केंद्र सरकार ने कृषि कानून लिए वापस, अब क्या मोड़ लेगी पंजाब की राजनीति

बिक्रम मजीठिया की कार्रवाई करने की ललकार पर चन्नी ने जबाव दिया कि आप उसके दिल से पूछकर देखो, वह अदालतों के चक्कर काट रहा है। भाई साहिब पानी पुलों के नीचे से ही गुजरना है। रही बात बेअदबी की तो इस मामले में जांच डेरा प्रमुख तक पहुंच चुकी है। वह कोर्ट के मामलों में दखलंदाजी नहीं कर सकते। नवजीत के साथ उनका प्यार है वह उनकी पार्टी के प्रधान हैं, और उनके मन में उनके लिए सत्कार है। उन्हें आलोचना खूब पसंद है और खुशामद करने वाले लोग अच्छे नहीं लगते। आलोचना करने वाले का वह हमेशा धन्यवाद करते हैं। उनका मानना है कि अगर आपके आलोचक नहीं हैं, तो आपका सुधार कभी नहीं हो सकता। 

मुख्यमंत्री से जब यह पूछा गया कि आपके प्रधान नवजोत सिद्धू ने कहा है कि इस बार के चुनावों में पंजाब के कई मौजूदा विधायकों की टिकटें काटी जा सकती हैं, तो इस पर चन्नी ने जवाब दिया कि टिकट काटना और देना न तो उनके हाथ में है और न ही सिद्धू के हाथ में है। वह फैसला हाईकमान ने करना है। वह उनसे पूछेंगे तो वे अपनी राय जरूर देंगे, मगर उनका मानना है कि पंजाब में उनकी सारी टीम अच्छा काम कर रही है।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News