मोगा में पुलिस पर हमला कर रेप के आरोपी कमांडो को छुड़वाया,9 साल तक किया मासूम का शोषण

punjabkesari.in Monday, Mar 02, 2020 - 10:13 AM (IST)

मोगा(संजीव, आजाद): रेप के आरोपी पंजाब पुलिस के कमांडो को पकड़ने गई पुलिस पार्टी पर गांव के लोगों की तरफ से हमला कर आरोपी को छुड़वा लिया गया। पुलिस को सूचना मिली थी कि आरोपी कमांडो छुट्टी पर अपने घर आया हुआ है। जब पुलिस टीम ने उसे गिरफ्तार कर गाड़ी में बिठा लिया तो परिजनों व मोहल्ले के लोगों ने पुलिस पार्टी पर हमला कर दिया। हमले में सब-इंस्पैक्टर बलविंदर सिंह के हाथ पर चोट लगी जबकि हवलदार हरजिंदर सिंह की जेब से पर्स निकाल लिया गया। पर्स में 2,200 रुपए, पुलिस पहचान पत्र व जरूरी दस्तावेज थे। इसके अलावा भीड़ ने सरकारी गाड़ी में भी तोडफोड़ की। जांच अधिकारी बलविंदर सिंह ने बताया कि हवलदार हरजिंदर सिंह के बयान पर कमांडो सर्बजीत सिंह समेत 16 लोगों को नामजद करने के अलावा 30 अज्ञात के खिलाफ ड्यूटी के दौरान पुलिस पार्टी पर हमला कर रेप के आरोपी को भगाने, तोडफोड़ व झपटमारी के आरोप में केस दर्ज किया गया है। 

PunjabKesari

इन लोगों के खिलाफ दर्ज हुआ मामला
पुलिस ने इस मामले में दर्शन सिंह, डिंपल, गोहना, बलदीप सिंह, रिंकू, राजदीप सिंह, अंग्रेज सिंह, रवि, बिंदर कौर, रंजीत कौर, कर्मजीत कौर, रमनदीप कौर, सुमनदीप कौर, राजेन्द्र कौर, चरणो सभी निवासी गांव झंडेयाना शरकी तथा कुछ अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ अ/ध 417 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि कथित आरोपियों को काबू करने के लिए पुलिस द्वारा छापेमारी की जा रही है।

पुलिस की नौकरी मिलने पर  बंद कर दी थी बातचीत 
पुलिस के मुताबिक, 30 दिसम्बर 2019 को मोगा के एस.एस.पी. को एक युवती ने पंजाब पुलिस के कमांडो पर रेप का आरोप लगा शिकायत दी थी। आरोपी की पहचान गुरदासपुर में रिजर्व बटालियन में कार्यरत झंडेयाना के सर्बजीत सिंह के रूप में हुई थी। आरोप है कि 2010 में जब शिकायतकर्ता लड़की 9वीं कक्षा में पढ़ती थी तो कथित आरोपी उसका पीछा करता था। जिस पर युवती की उसके साथ दोस्ती हो गई। दोस्ती को धीरे-धीरे आगे बढ़ाते हुए सर्बजीत ने एक दिन उसे होटल में ले जाकर उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए और उसके फोटो-वीडियो ले लिए। सर्बजीत सिंह 2011 में पुलिस में भर्ती हो गया। उसके बाद उसने बातचीत करनी बंद कर दी। जब भी वह उसे फोन करती तो वह उसे जान से मारने व तेजाब डालने की धमकी देता। उसने सोशल मीडिया पर हमारी फोटो वायरल करने की धमकी भी दी। इस तरह कथित आरोपी 9 साल तक उसे ब्लैकमेल कर हवस का शिकार बनाता रहा। आरोप यह भी है कि 2013 में लड़की गर्भवती भी हो गई थी, जिस दौरान पुलिस वाले ने गर्भपात करवा दिया था। आरोपी ने 23 जनवरी 2019 को फिर मोगा के एक होटल में मिलने के लिए बुलाया और वहां शादी करने की बात से मुकरते हुए उससे मारपीट की। एस.एस.पी. ने इस मामले की जांच डी.एस.पी. निहाल सिंह वाला को सौंप दी थी। 2 महीने की जांच के बाद आरोप सही पाए जाने पर पंजाब पुलिस के कमांडो सर्बजीत सिंह के खिलाफ 29 फरवरी को केस दर्ज कर लिया गया था।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

swetha

Related News

Recommended News