सैनी की गिरफ्तारी के लिए बादलों के ठिकानों पर हो छापेमारी: AAP

9/12/2020 1:48:51 PM

चंडीगढ़(रमनजीत): आम आदमी पार्टी पंजाब के विधायकों ने मांग की  कि पूर्व डी.जी.पी. सुमेध सिंह सैनी की गिरफ्तारी के लिए बादलों के ठिकानों पर भी छापामारी की जानी चाहिए। विधायकों कुलतार सिंह संधवां, जय किशन सिंह रोड़ी, कुलवंत सिंह पंडोरी और मनजीत सिंह बिलासपुर ने करीब 3 दशक पुराने बलवंत सिंह मुल्तानी केस में फंसे पूर्व डी.जी.पी. सुमेध सैनी के जैड सुरक्षा के बावजूद फरार होने और सैनी के बारे में हो रहे सनसनीखेज खुलासों को लेकर अमरेंद्र सिंह सरकार के साथ-साथ बादलों पर भी गंभीर आरोप लगाए । 

‘आप’ नेताओं ने कहा कि अदालती हुक्मों पर अब पंजाब पुलिस सैनी की गिरफ्तारी के लिए छापे मारने के ड्रामे कर रही है, जबकि सवाल यह है कि जैड सुरक्षा के बावजूद सुमेध सैनी फरार होने में कैसे कामयाब हो गया? कुलतार संधवां ने आरोप लगाया कि कैप्टन सरकार भी बादलों की आंखों के इस तारे को बचाने में जुटी है। ‘आप’ नेताओं ने कहा कि यदि अमरेंद्र सिंह सरकार इंसाफ पसंद होती तो न केवल मुल्तानी मामले, बल्कि सैनी मोटर्ज कारोबारी विनोद कुमार, उसके जीजा अशोक कुमार और चालक मुख्तियार सिंह के 15 मार्च 1994 को हुए अगवा और गुमशुदगी मामले में सैनी को खींचती और उनकी 24 साल कानूनी लड़ाई लडऩे वाली वृद्ध माता को इंसाफ देती। इतना ही नहीं, सैनी की तरफ से अपने पद का दुरुपयोग और बादलों के राज में डी.जी.पी. होते किए गए भ्रष्टाचार के साथ सैनी की बनाई सैंकड़ों एकड़ संपत्ति की भी जांच करती।

संधवां ने बादलों की तरफ से पहले कई सीनियर पुलिस अफसरों को नजरअंदाज कर सुमेध सिंह सैनी को डी.जी.पी. बनाया और एक अन्य मेहरबानी करते हुए सुमेध सैनी के विरुद्ध 2 और नागरिकों को अगवा करखुर्दबुर्द करने के मामले में सैनी पर सी.बी.आई. की तरफ से दर्ज केस को रद्द करवाने के लिए बादल सरकार की तरफ से सरकारी खर्चे पर सुप्रीम कोर्ट के तीन सीनियर वकीलों हरीश सालवे, रोहतगी और रवि शंकर प्रसाद (मौजूदा केंद्रीय मंत्री) को मोटी फीसें अदा की गई। ‘आप’ नेताओं ने यह खर्च बादलों से वसूलने की मांग की।


vasudha

Related News