बड़ी खबरः नशे की ओवरडोज से एक और पुलिसकर्मी ने तोड़ा दम

punjabkesari.in Saturday, May 21, 2022 - 11:16 AM (IST)

फिल्लौर(भाखड़ी) मामला पंजाब पुलिस अकैडमी में चल रहे ड्रग रैकेट का, नशे की ओवर डोज से तबियत खराब होने पर दयानंद हस्पताल में दाखिल हवलदार ने तोड़ा दम। अकैडमी के अधिकारी अब भी सुचेत नहीं हुए तो आने वाले दिनों में ओर भी मुलाजिम पड़ सके है हस्पताल के बिस्तर पर। नशा तस्कर पुलिस मुलाजिम शक्ति और जय की जमानत याचिका पर सैशन कोर्ट ने सुनवाई पर इंनकार करते हुए नीचली अदालत में जाने को कहा।
महाराजा रणजीत सिंह के किले में चल रही पंजाब पुलिस अकैडमी को नशे का ऐसा ग्रहण लगा की इस बुरी लत का शिकार हुए नौजवान पुलिस मुलाजिम हरमन बाजवा जो पुलिस अकैडमी में हवलदार के पद पर तैनात था और 10 दिन पहले नशे की ओवर डोज से उसकी हालत ऐसी खराब हुई जिसे ईलाज के लिए डी.एम.सी. लुधियाना में दाखिल करवाया गया जहां गत रात्रि उसने दम तोड़ दिया। 

मीडिया में पुलिस की और बदनामी ना हो 3 दिन बाद किया मृत घोषित
पुलिस अकैडमी में ड्रग रैकेट का पर्दाफाश होने के बाद अकैडमी की काफी किरकिरी हो रही थी, जनता सवाल करने लग पड़ी थी जिस पुलिस के कंधों पर नशा रोकने की जिम्मेवारी है वही इसका सेवन और तस्करी कर रहे है तो आम लोग कहां जाएंगे। डी.एम.सी. के डाक्टरों के मुताबिक हवलदार हरमन जब उनके पास आया तो उसकी हालत काफी खराब थी चिट्टे के इंजैक्शन लगाने के चलते उसके शरीर में एक भी नस नहीं बची थी जहां से वह ईलाज कर पाते। पिछले 3-4 दिन से हरमन का शरीर बिल्कुल हरकत करना बंद कर गया था अकैडमी का जो अधिकारी उसका हाल जानने आता था उसे उन्होंने बता दिया था कि हरमन को वैंटिलेटर से हटा कर चैक करना पड़ेगा कि उसके शरीर मंे जान है या नहीं। वैटिलेटर हटाने को अधिकारी नहीं माने तो मजबूरन उन्हें भी रखना पड़ा। आज प्रातः जब वैटिलेटर से हटा कर देखा तो उसे मृत घोषित कर दिया गया। एक अधिकारी ने बताया कि मीडिया में पुलिस की ओर बदनामी ना हो इसी लिए उसे वैटिलेटर पर रखवाया जा रहा था कि शायद वह ठीक हो जाए। 

अधिकारीयों ने अब भी सबक नहीं लिया तो आने वाले दिनों में ओर भी मुलाजिम पहुंच सकते है हस्पताल के बिस्तर पर
उक्त घटना से पर्दा उठने के बाद इसकी जांच का जिम्मा बड़े अधिकारीयों को सौंपा गया एक वरिष्ठ अधिकारी ने अपनी जांच रिपोर्ट में बताया कि अकैडमी के 8 से 10 मुलाजिम चिट्टे जैसी नशे की चपेट में आ चुके है जो पुलिस अकैडमी में ना केवल नशे का सेवन कर रहे है बल्कि उसकी तस्करी कर दुसरे पुलिस मुलाजिमों को भेज भी रहे है। जिसके बाद पुलिस ने अकैडमी में तैनात दो मुलाजिम शक्ति और जय के विरूद्ध मुक्दमा दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया जबकि 6 पुलिस मुलाजिम जिनके नाम और बैल्ट नंबर लिख कर अकैडमी की डायरैक्टर और एस.एस.पी. जालंधर को मुक्दमा दर्ज करने के लिए भेजा गया था वह आज भी खुले में घुम रहे है अज्ञैर पहले की तरह नशा भी कर रहे है। अगर अकैडमी के अधिकारीयों ने मृतक हवलदार की घटना से सबक नहीं सिखा तो आने वाले दिनों में मुश्कीलें और बढ़ सकती है ओर भी मुलाजिम नशा करने से बिमार होकर हस्पताल के बिस्तर पर पहुंच सकते है। उनको किसी नशा छोड़ने वाले सैंटर या फिर हस्पताल में दाखिल करवा कर ईलाज करवाना बहुत जरूरी है। एक वरिष्ठ आई.पी.एस. अधिकारी ने तो अपनी रिपोर्ट में यह भी मांग की थी कि उक्त केस को एस.टी.एफ. के हवाले किया जाए, दुसरा अकैडमी में तैनात सभी पुलिस मुलाजिमों का डोप टैस्ट करवा कर पता लगाया जाए कितने मुलाजिम इस लत का शिकार है और उन्हें बचाने के लिए उनका ईलाज भी करवाया जाए। 

आरोपी पुलिस मुलाजिमों को जेल से भेजा अदालत ने दो दिन के पुलिस रिंमाड पर
आरोपी पुलिस मुलाजिम शक्ति और जय जिन्होंने सैशन कोर्ट में अपनी जमानत याचिका दायर की थी को उस समें अदालत से झटका लगा जब अदालत ने उनकी याचिका खारिज करते हुए उन्हें नीचली अदालत में जाने को कहा था। दुसरी तरफ स्थानीय पुलिस ने नीचली अदालत में पटिशन दायर कर मांग की थी कि उक्त पुलिस मुलाजिमों ने जहां नशा तस्करी कर पूरे पुलिस विभाग को शर्मसार किया है वहीं इनसे कई राज उगलाने भी बाकी है। जिस पर अदालत ने पुलिस विभाग से समाचार पत्रांे में छपी खबरों की सुची मांगी थी जो थाना प्रभारी ने अपने वकील के माध्यम से आज उपलब्ध करवा दी। जिन्हें देखने और पढ़ने के बाद अदालत ने पुलिस मुलाजिम शक्ति और जय को दो दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया। अब देखना यह होगा की स्थानीय पुलिस इन से क्या राज उगलवा पाती है क्योंकि जांच अधिकारीयों ने तो अपनी रिपोर्ट में कई अहम खुलासे किए हुए है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vatika

Related News

Recommended News