एक लाख का इनामी गैंगस्टर गिरफ्तार, 16 वर्ष की उम्र में किया था पहला कत्ल

10/11/2019 5:39:43 PM

रूपनगर (विजय): रूपनगर पुलिस ने शुक्रवार को भारी जद्दो जहद तथा दोनों तरफ से गोलीबारी के बाद दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश के मोस्ट वांटेड गैंगस्टर को गिरफ्तार किया है। झुन्ना पंडित पिछले एक साल के दौरान रूपनगर पुलिस द्वारा पकड़ा गया 11वां गैंगस्टर है।

गैंगस्टर पर था 1 लाख का इनाम
रूपनगर के एसएसपी स्वप्न शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रकाश मिश्रा पंडित उर्फ झुन्ना पर 1 लाख रुपए का इनाम था तथा मिर्जापुर, यूपी के तिहरे कत्लकांड तथा यूपी गैंगस्टर एक्ट के तहत 6 केसों समेत कत्ल के 10 केसों में वांछित था। वह दिल्ली तथा यूपी में कत्ल, जबरन वसूली तथा अगवा करने के 20 से अधिक केसों में शामिल गिरोह को चला रहा है। दिल्ली, यूपी तथा राजस्थान आधारित कई असामाजिक तत्व इस गैंगस्टर के हिमायती बताए गए। एसएसपी स्वप्न शर्मा ने बताया कि रूपनगर पुलिस की सीआईटी टीम ने प्रात: उसे पकड़ने के लिए की गई मुठभेड़ के बाद गैंगस्टर से 32 बोर के 2 पिस्तौल तथा 8 बिना चले कारतूस समेत कई निजी चीजों को बरामद किया है।

PunjabKesari

माहिर शूटर है गैंगस्टर पंडित
पंडित तथा उसके साथी बनारस में दिलीप पटेल को खुलेआम कत्ल करने के बाद से फरार थे। दिलीप का भाई राजेश पटेल यूपी के किसान मोर्चा का प्रांतीय अध्यक्ष है। झुन्ना पंडित गिरोह के 8 मैंबर दिल्ली तथा यूपी की जेलों में बंद हैं तथा इस गिरोह द्वारा किए गए ज्यादातर जुर्म सुपारी हत्याएं तथा अंतर गिरोह दुश्मनी से संबंधित हैं। एसएसपी के अनुसार पंडित को एक माहिर शूटर के तौर पर जाना जाता है जो किसी भी तरह के हथियार को चला सकता है तथा अपने दोनों हाथों से किसी भी हथियार से गोली चला सकता है। वह यूपी से भागने के बाद दिल्ली, जयपुर तथा माउंट आबू में गुप्त ठिकानों में छुपा हुआ था तथा चिंतपूर्णी (हिप्र) से दिल्ली वापिस आ रहा था।

16 वर्ष की उम्र में किया था पहला कत्ल
खतरनाक अपराधी पंडित ने पहला जुर्म 15 साल की आयु में तथा पहला कत्ल 16 वर्ष की आयु में किया था। उसे दोनों बार तीन साल के लिए जुवेनाइल जेल में रखा गया था। प्राथमिक जांच में पता लगा है कि जेल में होते हुए भी उसने जबरन वसूली, अपहरण जैसी वारदातों समेत 3 कत्ल किए थे। फरार होने के दौरान वह हवाई यात्रा के जरिए सफर करता था। एसएसपी स्वप्न शर्मा ने बताया कि जांच में पता लगा है कि ज्यादातर गैंगस्टर तथा तस्करी रोकने वालों का कार्य करने का ढंग तरीका एक जैसा है। वह सफर के लिए स्थानीय रास्तों का प्रयोग करते हैं तथा आमतौर पर उनके ठिकाने धार्मिक स्थानों के समीप होते हैं। पुलिस को इन गैंगस्टरों के काम करने के ढंग तरीकों का पता लगने सदका पिछले कुछ महीनों में पंजाब-हिमाचल सीमा के निकट इन गैर सामाजिक तत्वों की समाज विरोधी गतिविधियों में काफी कमी आई है।


Mohit

Related News