नवजोत सिद्धू का छलका दर्द, बताई पद से इस्तीफा देने की वजह

punjabkesari.in Sunday, Dec 05, 2021 - 12:08 PM (IST)

जालंधर (खुराना, विनीत): अपनी ही सरकार से खफा चल रहे पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिद्धू का दर्द आज उस समय छलक उठा जब उन्होंने भरे सभागार में कहा कि ‘मैंने 3-3 सरकारें बनाकर दीं परंतु हाथ बंधे रहे। इसलिए पहले मंत्री पद और फिर प्रधानगी से इस्तीफे दिए।’ नवजोत सिद्धू ने कहा कि उन्हें अकेला रहना मंजूर होगा पर वह सिस्टम के खिलाफ लड़ते रहेंगे, मर-मिट जाएंगे पर चोर भगाकर रहेंगे। गौरतलब है कि नवजोत सिद्धू आज जालंधर के कन्या महाविद्यालय में आयोजित स्टूडेंट्स इंट्रेक्शन सैशन दौरान छात्राओं से मुखातिब थे। इस सैशन का आयोजन यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रहे तथा पंजाब कांग्रेस के मौजूदा महासचिव गौतम सेठ द्वारा गठित संस्था युवा मार्गदर्शन फाऊंडेशन द्वारा पंजाब सरकार के सहयोग से किया गया था। इस सैशन दौरान गौतम सेठ के अलावा आल इंडिया कांग्रेस के ज्वाइंट सैक्रेटरी कृष्णा अलावरू, आल इंडिया कांग्रेस की प्रवक्ता अल्का लांबा तथा पंजाब यूथ कांग्रेस के प्रधान वरिंद्र सिंह ढिल्लों ने भी छात्राओं को संबोधित करते हुए कई महत्वपूर्ण टिप्स दिए।

कार्यक्रम दौरान पंजाब के शिक्षा मंत्री परगट सिंह भी मौजूद रहे जिनकी ओर से नवजोत सिद्धू ने कालेज को 10 लाख रुपए की ग्रांट घोषित कर दी। परगट सिंह ने सरकार द्वारा बनाई जा रही नई शिक्षा नीति बारे कहा कि इंडस्ट्री की जरूरतों और रोजगार के अवसरों को ध्यान में रख कर नई शिक्षा नीति तैयार की जा रही है जिससे डिमांड और सप्लाई में गैप कम होगा। सैशन में पहुंचे सभी अतिथियों का स्वागत प्रिंसिपल प्रो. आतिमा शर्मा द्विवेदी ने किया और अतिथियों को हाल ऑफ फेम दिखाते हुए बताया कि पंडित जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, डा. अब्दुल कलाम आजाद जैसी बड़ी हस्तियां इस महाविद्यालय में पधार चुकी हैं और 1886 से लेकर अब तक यह संस्थान महिला शिक्षा क्षेत्र में अग्रणी है।

यह भी पढ़ेंः सुनील जाखड़ की नाराजगी जल्द दूर करेगी कांग्रेस, सौंपेंगी अहम जिम्मेदारी

विदेश जाने के रूपझान पर हुई ज्यादा चर्चा
सैशन के शुरू में कालेज की एक छात्रा ने कहा कि यहां कोई भविष्य न देख युवा वर्ग आईलेट्स करके विदेश भाग रहा है। इस ब्रेनड्रेन को रोकने के लिए सरकार क्या कर रही है? जवाब में सिद्धू का कहना था कि आज एजुकेशन सिस्टम मात्र खानापूर्ति वाला है। नौकरी के लिए पॉलिसी नहीं सिर्फ स्कीमें हैं और बजट का प्रावधान नहीं है। आज जरूरत माता-पिता से मिलने वाले संस्कारों की है परंतु आधुनिक माताएं किटी पार्टी को अधिमान देने लगी हैं। 
युवा वर्ग अगर अपना काम दिलचस्पी से करने लगे और उसे बोझ न समझे तो हालात बदल सकते हैं। किसी जैसा बनने और नकल करने की बजाय अपने अंदर की प्रतिभा को पहचान कर और अपने अंदर बैठे बच्चे को जिंदा रख कर जीवन का आनंद लिया जा सकता है। सैशन दौरान छात्राओं ने शिक्षा के गिरते स्तर, व्यवसायीकरण, सीखने की बजाय सिर्फ रटने पर जोर देने जैसे मुद्दे भी उठाए जिनका जवाब सिद्धू और परगट सिंह ने बाखूबी दिया।

हमने साधन छोड़ शगूफे पकड़ लिए
छात्राओं के सवालों के जवाब देते हुए नवजोत सिद्धू पंजाब सरकार पर आक्रामक दिखे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने 2 करोड़ नौकरियां, दिल्ली सरकार ने 8 लाख नौकरियां तथा पंजाब सरकार ने 26 लाख नौकरियां देने के वायदे किए परंतु किसी का कोई वायदा पूरा नहीं हुआ। यहां 1 लाख नौकरियां तक तो दी नहीं गईं। खेद का विषय है कि हमने साधन छोड़ कर शगूफे पकड़ लिए। युवा वर्ग को चाहिए कि वह नेताओं से सवाल करें कि पैसे कहां से आएंगे। आज जरूरत है कि 24 घंटे और 3 रुपए में बिजली मिले न कि फ्री बिजली की। उन्होंने कहा कि पंजाब की महिला भिखारी नहीं जो सरकार से हर महीने 1000 रुपए लेगी, उन्हें आत्मनिर्भर बनाकर इस योग्य करना होगा ताकि वह अन्य को 1000 रुपए बांट सकें।

यह भी पढ़ेंः जालंधर से बड़ी खबर: 3 बच्चों समेत महिला ने निगला जहर, मां-बेटे की मौत

सैशन का उद्देश्य युवा वर्ग से फीडबैक लेना : गौतम सेठ
पंजाब कांग्रेस महासचिव गौतम सेठ ने कहा कि सैशन का उद्देश्य अगली पीढ़ी के लिए विजन तैयार करना तथा युवा वर्ग से फीडबैक लेना है कि वह कैसा भविष्य चाहते हैं। सिद्धू के पंजाब माडल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भगत सिंह को रोल मॉडल मानना तथा विचारों को पॉलिसी का रूप देना उनकी खासियत है जो पूरे प्रदेश में ऊर्जा का संचार भी कर रहा है। उन्होंने कहा कि अव्वल छात्रों के साथ-साथ एवरेज को भी मौके मिले, ऐसे प्रयास किए जा रहे हैं।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News