पंजाब में उपमुख्यमंत्री की संभावना कम, हाईकमान के स्तर पर नहीं बन पाई सहमति

punjabkesari.in Saturday, Jul 10, 2021 - 11:21 AM (IST)

चंडीगढ़(अश्वनी): पंजाब कांग्रेस में चल रहे घमासान को लेकर धीरे-धीरे तस्वीर साफ हो रही है। मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह की कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद अब पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के स्तर पर बड़े फेरबदल का खाका तैयार कर लिया गया है। बेशक मंत्रिमंडल में फेरबदल हो सकता है लेकिन उपमुख्यमंत्री लगाने की संभावना काफी कम है। 

चर्चा है कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने स्पष्ट कर दिया है कि पंजाब में कई वरिष्ठ नेता हैं। ऐसे में किसी एक को उपमुख्यमंत्री बनाने से पंजाब कांग्रेस में अंतर्कलह शांत होने की बजाय बढ़ सकती है। इसीलिए फिलहाल उपमुख्यमंत्री पद को ठंडे बस्ते में डालना ही उचित है। कहा जा रहा है कि हाईकमान ने मुख्यमंत्री की इस बात पर हामी भरी है। हालांकि मुख्यमंत्री ने अंतिम फैसला कांग्रेस हाईकमान के स्तर पर छोड़ दिया है। इससे पहले चर्चा थी कि जल्द ही पंजाब में उपमुख्यमंत्री की तैनाती हो सकती है। कहा तो यहां तक जा रहा था कि दो उपमुख्यमंत्री भी तैनात किए जा सकते हैं। इनमें एक दलित वर्ग के नेता को भी उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। 

आगामी चुनाव में मुख्यमंत्री के हाथ में ही रहेगी बागडोर
2022 के चुनाव की पूरी बागडोर मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह के हाथ में ही रहेगी। मुख्यमंत्री पंजाब में कांग्रेस का चेहरा होंगे। यूं भी कहा जा सकता है कि कै. अमरेंद्र सिंह ही दोबारा मुख्यमंत्री चेहरे के साथ चुनाव मैदान में उतरेंगे। इससे पहले चर्चा थी कि कांग्रेस हाईकमान पंजाब में बिना मुख्यमंत्री चेहरे के चुनाव मैदान में उतर सकती है। हालांकि पंजाब प्रदेश कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने मल्लिकार्जुन कमेटी के गठन की पहली बैठक के बाद ही इन चर्चाओं को नकार दिया था। यह अलग बात है कि सिद्धू से प्रियंका गांधी व राहुल गांधी की मुलाकात के बाद दोबारा मुख्यमंत्री के बिना चुनाव लड़ने की चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया था।

सिद्धू केवल कैम्पेन कमेटी के चेयरमैन
कहा जा रहा है कि सिद्धू को केवल इलैक्शन कैम्पेन कमेटी के चेयरमैन लगाने पर ही सहमति बन पाई है। हालांकि प्रियंका गांधी उन्हें पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के स्तर पर अहम जिम्मेदारी देने के पक्ष में थीं लेकिन लगातार मंथन के बाद भी सिद्धू को कमेटी के स्तर पर अध्यक्ष या कार्यकारी अध्यक्ष लगाने पर सहमति नहीं बन पाई है। सिद्धू को उपमुख्यमंत्री तैनात किए जाने के कयास भी लगाए जा रहे थे लेकिन इस पर भी कोई सहमति नहीं बन पाई है।

18 नुक्तों पर अमल से हाईकमान संतुष्ट
कहा जा रहा है कि मल्लिकार्जुन कमेटी ने मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह को जो 18 नुक्तों पर अमल करने का सुझाव दिया था, उस पर मुख्यमंत्री ने काफी तेजी से अमल किया है। कांग्रेस हाईकमान ने भी मुख्यमंत्री की तरफ से किए गए कार्यों पर संतुष्टि जताई है। हालांकि बेअदबी-गोलीकांड मामले की जांच में तेजी लाने को कहा गया है।

पंजाब और अपने शहर की अन्य खबरें पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Related News

Recommended News