पंजाब भाजपा : जीत गए तो मंत्री, हार गए तो महामंत्री

punjabkesari.in Thursday, Jan 06, 2022 - 10:55 AM (IST)

जालंधर(अनिल पाहवा): पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के आयोजन से लेकर इसके रद्द होने तक का पूरा मामला गत पूरे दिन मीडिया व सोशल मीडिया पर छाया रहा। प्रधानमंत्री मोदी काफी समय बाद पंजाब आए थे तथा लोगों को उम्मीद थी कि वह पंजाब को कुछ बड़ा तोहफा दे सकते हैं लेकिन पंजाब के लोग सर्वप्रिय नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा से फिलहाल वंचित रह गए। इस पूरे मामले में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। सवाल कांग्रेस पर उठ रहे हैं और साथ ही राज्य के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और उप-मुख्यमंत्री सुखजिद्र सिंह रंधावा की खिंचाई हो रही है। 

इस मामले में पंजाब भाजपा पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं जिसके जवाब शायद पार्टी के वर्कर भी तलाश रहे होंगे क्योंकि आम वर्कर तो पार्टी के आला नेताओं के कहने के अनुसार झंडा उठा लेता है और पार्टी के लिए अपना पूरा दम-खम लगा देता है। पंजाब में भाजपा ने जो रैली का आयोजन किया, उसमें कई खामियां थीं जिसके कारण रैली के आयोजन पर ही सवाल खड़े हो रहे हैं। आयोजकों को शायद यह लगता होगा कि अगर जीत गए तो मंत्री और हार गए तो पार्टी में महामंत्री या किसी अन्य पोस्ट पर तैनात कर दिए जाएंगे। 

यह भी पढ़ेंः CBSE टर्म -1परीक्षा 2021, रिजल्ट में गड़बड़ करने वाले स्कूलों पर गिरेगी गाज

रैली स्थल पर उठे सवाल
पंजाब में जालंधर, लुधियाना, अमृतसर प्रमुख जिले हैं जहां बड़ी संख्या में हिंदू वोटर हैं। यह हिंदू वोटर भाजपा के काफी करीब रहा है तथा समय-समय पर भाजपा के लिए तारनहार की भूमिका निभाता रहा है। इस बड़े वोट बैंक वाले क्षेत्र को छोड़कर प्रधानमंत्री की रैली फिरोजपुर में रखना बड़ा सवाल खड़ा करता है। वैसे भी फिरोजपुर बॉर्डर बैल्ट है और सुरक्षा कारणों से जालंधर या लुधियाना कहीं अधिक सुरक्षित इलाके हैं जहां पी.एम. मोदी की रैली आयोजित की जा सकती थी। ऐसे में रैली स्थल पर सवाल उठना वाजिब है कि आखिर पंजाब भाजपा ने प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा को दरकिनार कर ऐसे इलाके में रैली रखी ही क्यों? 

यह भी पढ़ेंः दुष्कर्म केस में फंसे विधायक बैंस ने उठाया यह कदम

आखिर क्यों लिया रिस्क?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के उन नेताओं में शामिल हैं जिनकी फैन फॉलोइंग बेहद अधिक है तथा उनका नाम दुनिया भर में है। ऐसे नेता की सुरक्षा पर रिस्क लेना शायद अब तक कभी नहीं हुआ होगा। पंजाब भाजपा ने अगर जालंधर या लुधियाना में रैली रखी होती तो सुरक्षा कारणों से वह कहीं उचित स्थान थे। फिरोजपुर जहां रैली रखी गई थी, वह स्थान बठिंडा एयरपोर्ट से लगभग 110 कि.मी. दूर है। सड़क मार्ग से सामान्य यातायात में लगभग 1 घंटा 50 मिनट लगते हैं। वी.आई.पी. मूवमैंट हो तो यह सफर डेढ़ घंटे में या उससे भी कम में तय किया जा सकता है। इसके मुकाबले जालंधर में अगर रैली रखी जाती तो पी.ए.पी. में पहले भी प्रधानमंत्री की रैली हो चुकी है। वहां से जालंधर कैंट जहां विमान लैंड कर सकता है, की दूरी लगभग 5 कि.मी. है और यह मात्र 10 मिनट का सफर है। अगर प्रधानमंत्री मोदी का विमान आदमपुर में भी लैंड करता, तब भी आदमपुर से पी.ए.पी. ग्राऊंड तक लगभग 45 मिनट लगते, जो बठिंडा से फिरोजपुर की दूरी से बेहद कम है। इसी तरह अगर लुधियाना में भी रैली रखी जाती तो साहनेवाल एयरपोर्ट से शहर के बीचों-बीच तक भी जाना होता तो 30-35 मिनट से अधिक नहीं लगते। जब यह बात सबकी जानकारी में थी कि किसान संगठन विरोध कर सकते हैं तो इतना बड़ा रिस्क लेने की आखिर जरूरत क्या थी? 

यह भी पढ़ेंः पंजाब कैबिनेट की बैठक खत्म, लिए गए ये अहम फैसले

मौसम को लेकर लापरवाही क्यों?
पिछले कई दिनों से पंजाब में मौसम के करवट लेने को लेकर चर्चाएं चल रही थीं। मौसम विभाग ने भी 5 जनवरी के आसपास बारिश की संभावना व्यक्त की थी लेकिन पंजाब भाजपा ने इन सब चीजों को इग्नोर कर दिया तथा स्थिति यहां तक पहुंच गई कि रैली रद्द करनी पड़ी। यह बात तो तय थी कि अगर बारिश होती है तो प्रधानमंत्री को बठिंडा एयरपोर्ट से फिरोजपुर रैली स्थल तक पहुंचने में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। पंजाब भाजपा तथा रैली के आयोजकों ने सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस से भाजपा में आए राणा गुरमीत सोढी को खुश करने पर ही पूरा जोर लगा दिया जबकि राणा सोढी से पहले वर्षों से पार्टी की सेवा कर रहे आम वर्करों की परेशानी को नजरअंदाज कर दिया गया। एक तो फिरोजपुर बार्डर एरिया और ऊपर से मौसम की दगाबाजी। इन सब चीजों को भाजपा की रैली के आयोजक समझ नहीं पाए।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Related News

Recommended News