रिलायंस ग्रुप के जिम्मे होगा कम्पनी बाग की देख-रेख का काम

10/23/2019 10:51:36 AM

जालंधर(खुराना): शहर के बीचों-बीच स्थित तथा अंग्रेजों के जमाने का भव्य पार्क कम्पनी बाग जल्द ही देश के सबसे बड़े कारोबारी संस्थान रिलायंस ग्रुप के हवाले हो सकता है, क्योंकि रिलायंस कम्पनी के प्रतिनिधियों ने निगम आकर कम्पनी बाग को मैन्टेन करने का काम लेने में दिलचस्पी दिखाई है और कम्पनी के प्रतिनिधि तो एग्रीमैंट की कॉपियां तक लेकर गए हैं। गौरतलब है कि इन दिनों कम्पनी बाग की हालत ज्यादा अच्छी नहीं है, क्योंकि इसे निगम खुद मैन्टेन कर रहा है। कुछ माह पहले निगम ने इसकी देखभाल की जिम्मेदारी पटेल अस्पताल को सौंपी थी, परंतु सिविल वर्क तथा कुछ अन्य शर्तों को लेकर यह करार सिरे नहीं चढ़ा और पटेल अस्पताल ने कम्पनी बाग की सम्भाल का काम अपने हाथों में लेने से पहले ही अपने कदम पीछे खींच लिए।
PunjabKesari, Reliance group will be responsible for maintenance of company bagh
बेकार हो चुका है करोड़ रुपए से लगा फव्वारा
अकाली-भाजपा कार्यकाल दौरान आज से करीब 3-4 साल पहले कम्पनी बाग का पूरी तरह कायाकल्प किया गया था और इस काम पर करीब 5 करोड़ रुपए खर्च हुए थे, जिनमें से एक म्यूजिकल फव्वारा लगाया गया था, जिस पर करीब 1 करोड़ रुपए की राशि खर्च हुई थी। अब यह फव्वारा कबाड़ में परिवर्तित होता जा रहा है। दूसरा छोटा फव्वारा भी लगभग खराब हो चुका है और कम्पनी बाग में लैंडस्केपिंग का काम भी उजड़ चुका है।
PunjabKesari, Reliance group will be responsible for maintenance of company bagh
हर मेयर ने किया है कम्पनी बाग पर एक्सपैरिमैंट
देखा जाए तो ऐतिहासिक कम्पनी बाग पर कई प्रयोग किए जा चुके हैं और तकरीबन हर मेयर ने इस पर एक्सपैरिमैंट अवश्य किया है। पहले कम्पनी बाग की एंट्रैंस पर मिल्क बार हुआ करता था और लोग निगम की लाइब्रेरी के निकट से इसमें प्रवेश करते थे। यहां खजूरों के बड़े-बड़े पेड़ लगे होते थे। एक समय तो ऐसा भी था जब कम्पनी बाग में आम, जामुन, अमरूद, लीची जैसे फल भी लगा करते थे और तब यह पार्क के रूप में खूब हरा-भरा हुआ करता था। एक मेयर ने कम्पनी बाग पर अपना प्रयोग करते हुए इसके बीचों-बीच एक नहर-सी निकाल दी और उसमें पानी छोड़ कर इसे नई लुक दी। दूसरे मेयर ने आकर इस नहर में मिट्टी भरवा दी और नए सिरे से इसकी लैंडस्केपिंग की। 
PunjabKesari, Reliance group will be responsible for maintenance of company bagh
उसके बाद कम्पनी बाग का मेन स्वरूप तब बदला, जब निगम की नई बिल्डिंग बनी। तब इसमें कांट-छांट भी की गई और सीधा रास्ता भी निकाला गया। उसके बाद सुनील ज्योति के कार्यकाल में 5 करोड़ रुपए खर्च कर इसे बिल्कुल ही नया रूप दे दिया गया और महंगे फव्वारे तथा सजावटी सामान लगाया गया। यह अलग बात है कि देखभाल के अभाव के चलते आज कम्पनी बाग पर लगा करोड़ों रुपया बर्बाद हो चुका है।
PunjabKesari, Reliance group will be responsible for maintenance of company bagh
कई साल प्राइवेट ठेकेदारों के हवाले रहा कम्पनी बाग
निगम ने कम्पनी बाग पर 5 करोड़ रुपए खर्च करने के बाद इसकी देखभाल का काम टैंडर निकाल कर प्राइवेट ठेकेदारों को देना शुरू कर दिया, जिस पर निगम करीब 30 लाख रुपए साल के खर्च करता रहा। ठेकेदारों ने कम्पनी बाग से खूब कमाई की और धीरे-धीरे कम्पनी बाग का आकर्षण कम होता चला गया। अब निगम का मानना है कि अगर रिलायंस जैसा ग्रुप महीने का करीब एक या सवा लाख रुपए खर्च करे तो इसे बेहतर ढंग से मैन्टेन किया जा सकता है। अब देखना है कि जालंधर निगम तथा रिलायंस ग्रुप का करार कब सिरे चढ़ता है। अगर यह एग्रीमैंट हो जाता है तो उजड़ रहे कम्पनी बाग को नई लुक मिल सकती है।


Edited By

Sunita sarangal

Related News