जालंधर सिविल अस्पताल में नियमों की उड़ती हैं धज्जियां, कैदी वार्ड आऊट ऑफ कंट्रोल

10/14/2021 6:00:10 PM

जालंधर (शौरी): कई बार सुनने को मिला है कि सिविल अस्पताल में दाखिल मरीजों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है इसी कारण सिविल अस्पताल में कुछ मरीज इलाज के लिए दाखिल होने से डरते हैं क्योंकि कई मरीज मौज-मस्ती करने के साथ-साथ वार्ड में ही पैग लगा कर आराम से सो जाते हैं। 

बात कर रहें हैं सिविल अस्पताल की दूसरी मंजिल पर बने मेल सर्जीकल वार्ड की, जहां कैदी वार्ड भी बना है। इस वार्ड में जेल से बीमार होने वाले कैदियों और हवालातियों को इलाज के लिए रखा जाता है और साथ ही मारपीट के बाद घायल होने वाले लोगों को भी इस वार्ड में रखा जाता है। घायल लोग अस्पताल के वार्ड में ही शराब का सेवन करने के साथ बीड़ी-सिगरेट आदि पीते हैं।

PunjabKesari

नाम न छापने की शर्त पर कैदी वार्ड में तैनात एक पुलिस जवान ने बताया कि कई बार घायलों को शराब और बीड़ी पीने से रोका जाता है तो लोग उनके साथ लड़ाई-झगड़ा करते हैं। इतना ही नहीं, लोग खाली बोतलें वार्ड में ही फैंक देते हैं। कई बार तो उनके कमरे के बाहर शराब की खाली बोतलों फैंक दी जातीं हैं। चैकिंग दौरान सीनियर आधिकारियों की नजर बोतलों पर पड़ती है तो उन्होंने सोचा कि शायद वह शराब पीते हैं।

स्टाफ तक बैठने से डरता है इस वार्ड में
कैदी वार्ड का दौरा करने पर पत्रकारों ने देखा कि इस वार्ड में स्टाफ भी बैठने से डरता है और स्टाफ फीमेल सर्जीकल वार्ड में बैठता है। दरअसल काफी समय पहले इस वार्ड में मारपीट के बाद घायल लोग स्टाफ के साथ विवाद करते रहते हैं, इसलिए डर के मारे वहां स्टाफ भी नहीं बैठता।

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Recommended News

static