कोर्ट के आदेशों के बावजूद पुलिस पर बयान न दर्ज करने के आरोप

10/23/2019 9:06:49 AM

जालंधर(स.ह.): जुलाई माह में पक्का बाग में हुए हमले दौरान घायल हुए युवक ने थाना 4 की पुलिस पर माननीय कोर्ट के आदेशों को नजरअंदाज करने के आरोप लगाए हैं। पीड़ित मनिंद्र सिंह वालिया का आरोप है कि वह कई बार बयान देने के लिए थाने के चक्कर लगा चुका है लेकिन पुलिस उसे धमका कर वापस भेज देती है। 

पक्का बाग के रहने वाले मनिंद्र सिंह वालिया ने आरोप लगाया कि थाना 4 की पुलिस ने किसी के दबाव में आकर उसके ताया के बेटे लवली वालिया और दलबीर सिंह पर हमले के आरोप लगाते हुए केस दर्ज किया था। जब वह बेहोशी की हालत में था तो कुछ लोगों ने अपने निजी फायदे के लिए उसका इस्तेमाल करते हुए उक्त दोनों युवकों का नाम केस में दर्ज करवा दिया। मनिंद्र ने कहा कि पुलिस उसके केस में दलबीर सिंह को प्रोडक्शन वारंट पर भी लेकर आई थी लेकिन कोर्ट में उसने कहा था कि दलबीर सिंह हमलावरों में शामिल नहीं था। ऐसे में माननीय कोर्ट ने केस के आई.ओ. को दोबारा से मनिंद्र के बयान लेने को कहा लेकिन उसके बाद वह जब भी थाने गया तो उसे पुलिस द्वारा धमकाया जाता है। 

पीड़ित का आरोप है कि पुलिस को कोर्ट के आदेशों की भी परवाह नहीं और अभी तक उसे बयान लेने के लिए नहीं बुलाया गया। मनिंद्र ने यह भी मांग की कि उस पर हुए हमले के असली आरोपियों को पुलिस ढूंढे। इसी केस में नामजद लवली वालिया ने भी आरोप लगाया कि पुलिस उसे इस केस की इंक्वायरी में शामिल नहीं होने दे रही। सूत्रों की मानें तो लवली वालिया सोमवार को जांच में शामिल होने के लिए जालंधर आया लेकिन पुलिस ने एक न सुनी और उलटा जमानत रद्द करवा गिरफ्तार करने की धमकी दे रही है।


Edited By

Sunita sarangal

Related News