हत्या की आशंका: चिता से निकाल पुलिस ने कब्जे में लिया शव

11/6/2019 11:00:55 AM

लुधियाना(महेश): महानगर में मंगलवार को एक अजीबोगरीब घटना सामने आए जब पुलिस ने एक अंत्योष्टि के लिए चिता पर रखे गए शव को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। पुलिस को यह कठोर कदम इसलिए उठाना पड़ा, क्योंकि उसे सूचना मिली थी कि 32 वर्षीय सोनू की सामान्य मौत नहीं हुई, बल्कि उसकी कथित तौर हत्या की गई है। 
 

घटना जालंधर बाइपास के निकट गांव भट्टियां की है। पुलिस मृतक की पत्नी रीटा, बहन डौली, जीजा विकास व विकास के भाई ब्रह्मपाल को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। समाचार लिखे जाने तक इस संबंध में कोई अपराधिक मामला दर्ज नहीं हुआ था। जब पुलिस गांव के श्मशानघाट पहुंची तो उन्होंने देखा कि मृतक के परिजन शव की अंत्येष्ठि के लिए चिता को सजा चुके थे और उसे अग्रि के हवाले करनी की तैयारी थी, परंतु पुलिस ने तुरंत संस्कार रूकवा दिया व चिता की लकडिय़ों में शव को निकाल कर अपने कब्जे में ले लिया। आरोप है कि मृतक की पत्नी, उसकी बहन, जीजा व जीजा का भाई चुपके से सोनू का संस्कार कर रहे थे। बताया जाता है कि मूलरूप से सहारनपुर का रहने वाला सोनू अपनी पत्नी व बच्चों के साथ चिट्टी कालोनी के एक किराए के घर में रहता था। उसकी 6 साल की एक बेटी व 4 साल का एक बेटा है। वह एक फैक्टरी में सफाई कर्मी था। आरोप है कि उसे अपनी पत्नी के चरित्र संदेह था, जिसको लेकर पति-पत्नी में अक्सर लड़ाई-झगड़ा रहता था। जिस घर में सोनू किराए पर रहता था, उसी घर में उसकी बहन डौली व विकास भी रहते हैं। विकास रीटा से हमदर्दी रखता था। जब भी सोनू व रीटा में झगड़ा होता तो विकास और डौली रीटा का साथ देते और सोनू अकेला रह जाता था। आरोप है कि सोमवार रात को सोनू के साथ मारपीट की गई, जिससे उसकी मौत हो गई। 

 

सोनू को मारपीट कर घर से निकाल दिया था 
मीनाक्षी ने बताया कि सोनू के साथ अक्सर मारपीट होती थी। उसे भाभी के चरित्र पर शक था। सोनू का जीजा विकास अक्सर रीटा से हमदर्दी दिखाता था, जिसके चलते डौली भी अपनी भाभी का ही साथ दिया करती थी। उन्हें पता चला है कि कल रात को भी सोनू व रीटा में झगड़ा हुआ। इन तीनों ने मिलकर सोनू को इस कदर पीटा की उसकी मौत हो गई। 


मुझसे कहा- शव लेकर सहारनपुर आ रहे हैं, बाद में फोन बंद कर लिया
सोनू के चाचा रजिंदर कुमार ने बताया, मुझे सुबह रीटा का फोन आया। उसने कहा कि सोनू की मौत हो गई है। वह शव लेकर सहारनपुर आ रहे हैं। इसके बाद उसने फोन बंद कर लिया। संदेह होने पर मैंने अपनी बेटी मीनाक्षी और सोनू के फूफा मनोज कुमार से बात की। उन्हें छानबीन के लिए सोनू के घर भेजा। जहां उन्हें पता चला कि सोनू का संस्कार करने के लिए उसे श्मशानघाट ले जाया जा चुका है। जब वह श्मशानघाट पहुंचे तो सोनू के शव को जलाने की तैयारियां चल रही थीं। इस पर मीनाक्षी ने पुलिस को कॉल करके मौके पर बुला लिया। 


Vatika

Related News