जेलों को आत्मनिर्भर बनाने की कवायद शुरु, 2 जेल पैट्रोल पंपों का होगा उद्घाटन

punjabkesari.in Thursday, Jun 30, 2022 - 11:08 AM (IST)

जालंधर (नरेंद्र मोहन): लोक लुभावन योजनाएं और राज्य के बढ़ते कर्ज को देखते हुए पंजाब सरकार ने विभागों को आत्मनिर्भर बनाने की कवायद शुरू कर दी है। हालांकि कुछ विभाग और निगम अभी भी लाभ में चल रहे हैं परंतु सरकार ने अब जेल विभाग को अपने पैरों पर खड़ा होने का पायलट प्रोजैक्ट शुरू किया है जिसके चलते जेलों की भूमि पर लगने वाले पैट्रोल पंप की शुरूआत जुलाई माह से होने जा रही है।
आरंभ में लुधियाना और फिरोजपुर के पैट्रोल पंप शुरू किए जाएंगे और उसके बाद शेष 10 पंप चलाए जाएंगे।

इसके साथ ही एक बार फिर से जेलों में बंद पड़े उद्योगों को चालू किया गया है। उम्मीद की जा रही है कि अपने इन कारोबार से जेल विभाग प्रतिमाह 50 लाख रुपए की कमाई कर सकेगा। जेलों द्वारा की जाने वाली कमाई अब पंजाब सरकार के पास नहीं, बल्कि जेलों के पास ही रहेगी। सरकार तेलंगाना के जेल मॉडल को आधार मानकर जेलों में व्यापारिक गतिविधियां शुरू कर रही है। तेलंगाना को जेलों की व्यापारिक गतिविधियों से 600 करोड़ रुपए की सालाना आय होती है।

अच्छे आचरण वाले और रिहा कैदियों को मिलेगा पैट्रोल पंपों पर काम 
पंजाब की जेलों की भूमि पर 12 पैट्रोल पंप खोलने का समझौता इंडियन ऑयल द्वारा पिछले साल हो गया था। 12 जेलों की भूमि पर यह पैट्रोल पंप गुरदासपुर, श्री मुक्तसर साहिब, फिरोजपुर, लुधियाना, अमृतसर, संगरूर समेत 6 अन्य जेलों में खोले जा रहे हैं।

जेलों में अच्छे आचरण वाले और रिहा हो चुके कैदियों के पुनर्वास के रूप में उन्हें इन पैट्रोल पंपों पर काम मिलेगा, जिनमें महिला कैदियों को प्राथमिकता दी जाएगी। तमाम 12 पंप खुलने के बाद जेल विभाग को इन पैट्रोल पंपों से 40 लाख की आय होगी। इंडियन ऑयल जेलों की भूमि पर लगे पंपों का किराया भी देगा और बिक्री हुए तेल में से कमिशन भी मिलेगा। आमदन की यह राशि जेलों के कल्याण के लिए तेलंगाना मॉडल को लेकर स्थापित पंजाब प्रिजन डेवलपमेंट बोर्ड के खाते में जाएगी जबकि अब तक जेलों में व्यापारिक गतिविधियों से प्राप्त आय सरकार के खजाने में जाती थी।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News