बिल्ला से बरामद किए गए हाइटैक हथियार कहीं रैफरैंडम 2020 की एक कड़ी तो नहीं!

6/2/2020 11:32:59 AM

जालंधर(कमलेश): पंजाब इस समय नार्को टैरारिज्म से जूझ रहा है। आई.एस.आई. और के.एल.एफ. संस्था ने पंजाब के गैगस्टरों के साथ संबंध स्थापित किए हुए हैं और उन्हीं की सहायता से पंजाब में नार्को टैरारिज्म फैलाया जा रहा है। पिछले दिनों हैरोइन तस्कर चीता की गिरफ्तारी से इस बात कोलेकर बड़ा खुलासा हुआ है। भारत को घुसपैठ के अलावा आई.एस.आई. ड्रग्स से कमजोर करने में लगी हुई है। ड्रग्स के बदले में मिल रही ड्रग मनी को आतंकवादी गतिविधियों में इस्तेमाल किया जा रहा है और 

इसमें आई.एस.आई के एल.एफ. के खालिस्तानी एजैंडे का खूब फायदा उठा रहा है। के.एल.एफ. और आई.एस.आई. मिलकर पंजाब के नामी गैंगस्टरों को उनके लिए काम करने के लिए राजी करते हैं। किसी गैंगस्टर को खालिस्तान के नाम पर राजी किया जाता है तो किसी को अच्छी कमाई का लालच दिया जाता है। इसके बाद आरंभ होता है बार्डर पार से पंजाब में नार्को टैरारिज्म का खेल। गत दिनों ओकू यूनिट और काऊंटर इंटैलीजैंस ने ज्वाइंट ऑपरेशन में मोस्ट वांटेड गैंगस्टर बिल्ला को उसके 5 साथियों समेत काबू किया था। बिला से हाईटैक हथियार बरामद किए गए थे और उन हथियारों में शामिल पिस्टल अमेरिकी राष्ट्रपति की सिक्योरिटी में तैनात यू.एस. सीकेट सर्विस एजैंट के पास होती है।

यह माना जा रहा था कि यह हथियार पाकिस्तान से ही पंजाब में आए थे और इसकाखुलासा भी हुआ था क्योंकि यह बात किसी से नहीं छिपी की बिल्ला के संबंध पाकिस्तान में मारे गए के.एल.एफ. के प्रमुख आतंकी हरमीत सिंह से थे। पुलिस की जांच गैंगस्टर हैरी च_ा और सुक्खा भीखरीवाल तक भी जा सकती है क्योंकि यह दोनों गैंगेस्टर भी बिल्ला के करीबी माने जाते हैं। पुलिस जांच में जल्द पता लग सकता है कि नार्को टैरारिज्म में पंजाब के कितने और गैंगस्टर जुडे हैं। पंजाब में हैरोइन का सेवन कर रहा युवक इस बात से परिचित नहीं होता कि वह अनजाने में अपने ही देश में पनप रहे आतंकवाद को फंडिंग कर रहा है। बिल्ला से पकड़े गए हथियार इस ओर भी इशारा करते हैं कि यह हथियार कहीं रैफरैंडम 2020 के लिए तो नहीं लाए गए थे। 

सभी एजैंसियों को रहना होगा चौकस
रैफरैंडम 2020 को लेकर आई.एस.आई. के साथ मिलकर खालिस्थानी ग्रुप बड़ी साजिश रच सकते हैं। कोरोना महामारी के चलते पुलिस भी स्थिति को कंट्रोल करने में लगी हुई है। ऐसे में उक्त ग्रुप अपनी साजिश को परवान चढ़ा सकते हैं। इसके साथ ही पंजाब के बड़े गैंगस्टरों पर नजर भी रखना जरूरी है। गैंगस्टर जयपाल भुल्लर ने कुछ समय पहले लुधियाना में 30 किलो सोने की डकैती को अंजाम दिया था और अब तक पुलिस की पकड़ से बाहर है जबकि उसके कुछ साथी गिरफ्तार किए जा चुके हैं। पंजाब को बचाने के लिए नार्को टैरारिज्म की कमर तोडऩा जरूरी है।


Vaneet

Related News