पाकिस्तान ने भी माना तरणजीत संधू का लोहा, सिंह अमेरिका में है भारतीय राजदूत

punjabkesari.in Saturday, Feb 19, 2022 - 03:10 PM (IST)

चंडीगढ़ (ब्यूरो) : पाकिस्तान के शिक्षा शास्त्रीय रणनीतिकार और राजनीतिक विश्लेषक कमर चीमा ने एक बैठक के दौरान अमेरिका में भारतीय राजदूत तरणजीत सिंह संधू की खुलकर तारीफ की है। दरअसल चीमा पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी विश्लेषक साजिद तरार से चर्चा कर रहे थे। अपनी चर्चा में उन्होंने तरनजीत सिंह संधू की प्रशंसा की और कहा कि भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू के प्रयास भारत-अमेरिका संबंधों को मजबूत कर रहे हैं। भारत-प्रशांत पर अपने बयान में अमेरिका ने भी भारत के समर्थन में बात की है।

PunjabKesari

कमर चीमा ने आगे कहा कि एक तरफ भारतीय राजदूत संधू इतना अच्छा काम कर रहे थे और दूसरी तरफ पाकिस्तान ऐसा कुछ नहीं कर रहा था। बता दें कमर चीमा इस्लामाबाद में स्थित एक रणनीतिक और राजनीतिक विश्लेषक हैं। उनकी रुचि के क्षेत्र पाकिस्तानी और दक्षिण एशियाई राजनीति हैं। साजिद तरार बाल्टीमोर के एक पाकिस्तानी-अमेरिकी व्यवसायी हैं। वह एक गैर लाभकारी निजी संगठन सेंटर फॉर सोशल चेंज के सी.ई.ओ. हैं। चर्चा के दौरान उन्होंने भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर का भी जिक्र किया। साजिद ने कहा कि पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की सोच जहां मुल्तान से आगे नहीं थी, वहीं जयशंकर एक दृढ़निश्चयी राजनयिक थे। संधू के लिए उन्होंने संयुक्त राज्य में भारतीय अधिकारियों और लोगों के साथ घनिष्ठ संबंध स्थापित किए हैं। उन्होंने उल्लेख किया कि थिंक टैंक हडसन इंस्टीट्यूट, गार्नी मेलन और ब्रोकिंग इंस्टीट्यूट के अधिकारियों को अक्सर भारतीय दूतावास में आमंत्रित किया जाता है।

जब भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी संयुक्त राज्य की यात्रा करते हैं, तो प्रमुख व्यवसायी भी आते हैं। जहां तक ​​पाकिस्तान की बात करें जब इमरान खान अमरीका दौरे पर आते हैं तथा पाकिस्तानी एसैम्बली पहुंचते हैं तो ऐसा कुछ नहीं होता। एक सुरक्षा अधिकारी ने कहा लोगों को उनकी जानकारी के बिना यहां बुलाया जाता है।" ये लोग अक्सर अपनी तस्वीरें लेते हैं और निकल जाते हैं।

जानिए तरनजीत सिंह संधू के बारे में
तरणजीत सिंह संधू वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका में भारत के राजदूत के रूप में कार्यरत हैं। संधू 1988 में भारतीय विदेश सेवा में शामिल हुए। वह यूक्रेन में भारतीय दूतावास खोलनेकी जिम्मेदारी भी उनके उनके पास थी तथा उन्होंने वहीं राजनीतिक और प्रशासनिक विंग के प्रमुख के रूप में कार्य किया। वह वाशिंगटन में पहले सचिव थे। उन्होंने फ्रैंकफर्ट में  कौंसल जनरल और वाशिंगटन डी.सी. में भारतीय दूतावास में डिप्टी चीफ ऑफ मिशन तथा फ्रैंकफर्ट में भारत के कौंसल जनरल के तौर पर काम किया है। उन्होंने भारत के विदेश मंत्रालय में विभिन्न पदों पर भी कार्य किया है।

PunjabKesari

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kamini

Related News

Recommended News