लॉरेंस को पंजाब लाने के लिए पुलिस ने क्या-क्या बरतीं सावधानियां, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

punjabkesari.in Wednesday, Jun 15, 2022 - 04:38 PM (IST)

चंडीगढ़: पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्याकांड के मामले की जांच लगातार जारी है। इस मामले में दिन -प्रतिदिन कई बड़े खुलासे हो रहे हैं। गत दिन बुधवार को सिद्धू मूसेवाले हत्याकांड मामले में गैंगस्टर लॉरैंस बिश्नोई को पंजाब पुलिस दिल्ली की तिहाड़ से लेकर आए। पंजाब पुलिस लॉरैंस बिश्नोई को लेकर आज सुबह 3 बजे लेकर मानसा पहुंची और 4 बजे उसे ड्यूटी मैजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। आपको यह भी बता दे कि लॉरैंस की सुरक्षा को लेकर और कई गैंगस्टर ग्रुपों की धमकियों के कारण पुलिस उसे दिल्ली से पंजाब 80 कि.मी. लंबे रूट से लेकर आई। 

जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले गैंगस्टर लॉरेंस ने अपनी जान को खतरा बताते हुए पंजाब जाने से मना किया था। उसका कहना है कि पंजाब पुलिस मूसेवाला हत्याकांड को लेकर उसका एनकाउंटर कर सकती है। उसने इस मामले में लॉरेंस ने एन.आई.ए. कोर्ट और पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, लेकिन वहां उसे कोई राहत नहीं मिली। वहीं कोर्ट में इस मामले में लॉरेंस के वकील ने कहा कि पंजाब पुलिस लॉरेंस को हथकड़ी में सुरक्षित लेकर जाए। पुलिस कोई ऐसा मौका न छोड़े कि जिसमें फेक एनकाउंटर की कोई गुंजाइश बचे। पुलिस इस मामले में एफिडेविट दायर करे। इसके अलावा लॉरेंस के वकील विशाल चोपड़ा ने पंजाब पुलिस की ट्रांजिट रिमांड की मांग का विरोध करते हुए कहा कि विश्नोई को पंजाब में जान का खतरा है। अगर लारेंस को पंजाब ले जायगा गया तो उसका फेक एनकाउंटर भी हों सकता है। 

पंजाब पुलिस की 12 गाड़ियों का काफिला लॉरैंस बिश्नोई को दिल्ली से पंजाब लेकर आया। पुलिस दिल्ली से सोनीपत-पानीपत-करनाल-अम्बाला होते हुए पंजाब में दाखिल हुए क्योंकि इस रूट पर ट्रैफिक अधिक रहने के कारण लॉरैंस की जान को खतरा कम बताया जा रहा है। लॉरैंस को पंजाब लाने के लिए 2 बुलेटप्रूफ स्कॉर्पियों गाड़ियों का प्रबंध किया गया था यह सब चकमा देने के लिए किया गया। इन दोनों गाड़ियों में से एक में बिश्नोई को बैठाया गया और रास्ते में दोनों गाड़ियों को आगे पीछे किया जाता रहा ताकि किसी को भी पता न चल सके कि बिश्नोई किस बुलेटप्रूफ गाड़ी में है।

गत दिन मंगलवार को पंजाब पुलिस लॉरैंस का मैडिकल करवाकर करीब 8 बजे दुल्ल से रवाना हुई थी। दिल्ली से पंजाब आने के लिए 2 रूट शोर्ट थे और एक लंबा रूट था। पहला रूट दिल्ली से रोहतक- जींद-नरवाना-टोहाना होते हुए मानसा पहुंचता है और यह रूट 280 कि.मी. का था। दूसरा रूट दिल्ली से रोहतक- महम-हिसार-फतेहाबाद होते हुए मानसा पहुंचता का है और यह रूट 288 कि.मी. है। पंजाब पुलिस ने इन दोनों रूटों की जगह सबसे लंबा रूट चूना जो 362 कि.मी. है और यह दिल्ली से सोनीपत-पानीपत-करनाल-अम्बाला होते हुए राजपुरा के रास्ते पंजाब में पटियाला से होते हुए मानसा पहुंचे। 

सबसे लंबा रूट चुनने की खास वजह यह थी कि यहां पर खतरा कम रहता है क्योंकि यहां  ट्रैफिक अधिक रहता है और शॉर्ट रूट दोनों हाईवे पर कम ट्रैफिक और जान को खतरा अधिक था। दोनों रूटों पर लॉरैंस के गुर्गे होने का भी खतरा था। जिस रूट से लॉरैंस को लाया गया वहा रास्ते में दोनों बड़े बड़े ढाबे हैं जिस कारण काफिले पर अटैक करना आसान नहीं था। 

पंजाब पुलिस ने लॉरेंस को मानसा कोर्ट में पेश करने के लिए 24 घंटे का समय था लेकिन पुलिस ने लोगों का जमावड़ा होने का डर देखते हुए उसे सुबह 4 बजे ही ड्यूटी मैजिस्ट्रेट के सामने पेश कर दिया गया। दिन के समय रोड पर ट्रैफिक भी अधिक रहता। तब लॉरेंस के लिए रूट सैनिटाइज करते हुए ट्रैफिक रोका जाता तो रूट एक्सपोज हो जाता। ऐसे में पुलिस ने सुबह ही ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने पेश कर 7 दिन का रिमांड ले लिया और सुबह होने तक उसे मोहाली में खरड़ स्थित क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी के ऑफिस में शिफ्ट कर दिया गया।

लॉरेंस को जब खरड़ सी.आई.ए. दफ्तर लाया गया तो मीडिया सहित सबको इसका पता चल गया। भीड़ की वजह से लॉरेंस को खतरा बढ़ते देखकर पंजाब पुलिस ने नई चाल चली। सुबह 10 बजे के आसपास खरड़ सी.आई.ए. दफ्तर से 2 काफिले निकाले गए और दोनों काफिलों में एक-एक बुलेटप्रूफ गाड़ी थी। इनमें से एक काफिला मानसा रवाना किया गया और दूसरा होशियारपुर की तरफ। अब यह किसी को नहीं पता कि लॉरेंस खरड़ में है या होशियारपुर इनमें से किसी एक काफिले में उसे ले जाया जा चुका है। पुलिस लॉरेंस को सीक्रेट लोकेशन पर शिफ्ट कर चुकी है।

बता दें गैंगस्टर लॉरेंस और उसके साथियों ने पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी ली है। उन्होंने इसे लॉरेंस के करीबी विक्की मिड्‌डूखेड़ा के कत्ल का बदला बताते हुए मूसेवाला को बंबीहा गैंग से जोड़ दिया। इसके बाद से ही बंबीहा गैंग ने मूसेवाला हत्याकांड का बदला लेने की धमकी दी है। बंबीहा गैंग से ही जुड़े दिल्ली के दाउद नाम से मशहूर गैंगस्टर नीरज बवाना ने भी लॉरेंस को धमकी दी है। गैंगस्टर भूप्पी राणा भी मूसेवाला का कत्ल करने वालों का पता बताने वाले को 5 लाख रुपए के ईनाम की घोषणा कर चुका है। पंजाब में इस समय बंबीहा गैंग के साथ बवाना, भूप्पी राणा, कौशल चौधरी, टिल्लू ताजपुरिया समेत 7 गैंग लॉरेंस के खिलाफ एकजुट हो चुके हैं।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kamini

Related News

Recommended News