पोपली के घर से भारी मात्रा में मिला सोना-चांदी कहां से खरीदा, जांच में जुटी पुलिस

punjabkesari.in Thursday, Jun 30, 2022 - 02:50 PM (IST)

चंडीगढ़ (रमनजीत): भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार आई.ए.एस. अधिकारी संजय पोपली के घर से मिले करोड़ों रुपए के सोने व चांदी का स्रोत खंगालने में विजिलेंस जुटी हुई है। विजिलेंस द्वारा पता लगाया जा रहा है कि सोने की ईंटें, बिस्कुट व सिक्के और चांदी किस सुनार की दुकान से खरीदे गए थे ताकि मामले में आगे बढ़ा जा सके। सूत्रों के मुताबिक विजिलेंस ब्यूरो सोने की ईंटों, बिस्कुट पर लगे मार्का के जरिए ज्वैलर्स का पता लगाने की कोशिश कर रही है। हालांकि विजिलेंस द्वारा भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार आई.ए.एस. अधिकारी संजय पोपली से भी इस बारे में पूछताछ की गई थी, लेकिन सूत्रों का कहना है कि उसके द्वारा इस संबंध में कुछ भी बताने से इंकार कर दिया गया है।
 
अब विजिलेंस ब्यूरो आभूषणों के व्यापार में लगे लोगों के जरिए यह पता लगाने में जुटा है कि यह सोना कहां से खरीदा गया। ज्वैलर्स का पता चलने के बाद विजिलेंस टीम द्वारा टैक्स संबंधी भी जांच की जाएगी व विभिन्न टैक्स विभागों की सहायता भी ली जाएगी। पता चला है कि इसमें से काफी सारा सोना नोटबंदी के समय खरीदा गया था।

ध्यान रहे कि गत 24 जून को संजय पोपली की गिरफ्तारी के 4 दिन बाद विजिलेंस ब्यूरो ने सेक्टर-11 चंडीगढ़ में उसके घर के स्टोर रूम से 12 किलो सोना, 3 किलो चांदी, 4 एप्पल आईफोन, एक सैमसंग फोल्ड फोन और 2 सैमसंग स्मार्टवॉच बरामद की थी। 12 किलोग्राम सोने में 9 सोने की ईंटें (हरेक 1 किलोग्राम), 49 सोने के बिस्कुट और 12 सोने के सिक्के शामिल हैं जबकि 3 किलो चांदी में 3 चांदी की ईंटें (हरेक 1 किलोग्राम) और 18 चांदी के सिक्के (हरेक 10 ग्राम) शामिल हैं। 

इसी भारी-भरकम रिकवरी के दिन संजय पोपली के बेटे को गोली लगी थी, जिसे पुलिस द्वारा आत्महत्या की घटना बताया जा रहा है, जबकि परिवार द्वारा दावा किया गया था कि उनके बेटे कार्तिक पोपली की हत्या विजिलेंस टीम द्वारा की गई है, जिसको लेकर काफी विवाद भी रहा और कार्तिक के शव के पोस्टमार्टम के लिए भी काफी समय इंतजार करना पड़ा था। 

बता दें कि आई.ए.एस. अधिकारी संजय पोपली को नवांशहर में सीवरेज पाइपलाइन बिछाने के लिए टैंडरों को मंजूरी देने के एवज में एक प्रतिशत कमीशन के तौर पर 7 लाख रुपए की रिश्वत मांगने के आरोप में 20 जून को गिरफ्तार किया गया था। उसके साथी संदीप वत्स को भी जालंधर से गिरफ्तार किया गया था। दोनों के खिलाफ सीवरेज का काम करने वाले एक ठेकेदार संजय कुमार ने शिकायत दी थी। 

उक्त मामला दर्ज होने के बाद संजय पोपली के खिलाफ थाना अबोहर में भी एक मामला दर्ज किया गया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि संजय पोपली ने ठेकेदार से रिश्वत मांगने संबंधी वीडियो व अन्य सबूत हासिल करने के लिए उनके खिलाफ एक अज्ञात महिला के जरिए यौन शोषण व धोखाधड़ी की शिकायत दे दी थी। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News